बिहार में 12वीं पास बेटी को 25 और ग्रेजुएट को 50 हजार देगी नीतीश सरकार

Smart News Team, Last updated: 22/02/2021 08:37 PM IST
सोमवार को बिहार सरकार द्वारा अगले वित्तीय वर्ष के लिए बजट पेश करते हुए प्रदेश की बेटियों को इंटर पास करने पर 25000 रुपये और ग्रेजुएट होने पर 50000 रुपये देने की घोषणा की गई है. इसके अलावा महिला रोजगार को लेकर भी कई घोषणाएं की गई हैं.
नीतीश सरकार ने अगले वित्तीय वर्ष के लिए बजट पेश करते हुए छात्रों को 12वीं पास करने पर 25 हज़ार और ग्रेजुएट होने पर 50 हज़ार रुपये देने की घोषणा की है.

पटना. बिहार में नीतीश सरकार छात्राओं को इंटर पास करने पर 25 हज़ार रुपये और ग्रेजुएट होने पर 50 हज़ार रुपये देगी. इसकी घोषणा सरकार ने सोमवार को विधानमंडल में बजट पेश करते हुए की. इस बजट में सरकार द्वारा लड़कियों और महिलाओं के लिए कई घोषणाएं की गई हैं.

आपको बता दें कि सोमवार को सरकार ने अगले वित्तीय वर्ष के लिए 2,18, 303 करोड़ रुपये का बजट पेश किया है. यह नीतीश सरकार का 16 वां बजट है. सरकार ने इस बजट को आत्मनिर्भर भारत का बजट बताया है. इस दौरान वित्त मंत्री ने राजकोषीय घाटा 3 फीसद रहने का अनुमान जताया है.

पटना: विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश, जानें बजट की बड़ी बातें

जानकारी के अनुसार बजट में बिहार सरकार ने प्रदेश की बेटियों के लिए उनके अविवाहित रहते हुए इंटरमीडिएट पास करने पर 25 हज़ार रुपये और स्नातक पास करने पर 50 हज़ार रुपये देने की घोषणा की. इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार बेटियों को पहले से ही सरकारी नौकरियों में 35% आरक्षण दे रही है लेकिन अभी भी कई विभागों में महिलाएं अनुपातिक दृष्टि से काफी कम है और सरकार इन जगहों पर जल्द से जल्द महिलाओं की नियुक्ति करेगी.

Bihar Budget 2021 Live Updates: वित्तमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने पेश किया अपना पहल बजट

इसके अलावा सरकार ने कहा कि नौकरियों में महिलाओं की संख्या कम है, इसे बढ़ाया जाएगा. इस दौरान वित्त मंत्री ने महिलाओं के लिए स्वरोजगार को लेकर भी कई घोषणाएं कीं. उन्होंने महिलाओं को उद्यमी बनाने के लिए विशेष योजना लाने की घोषणा की. इसके लिए महिला उद्यमियों को 5 लाख रुपये की अनुदान राशि दी जाएगी. इसके अतिरिक्त 5 लाख तक की राशि एक प्रतिशत की ब्याज दर पर दी जाएगी. इस योजना के लिए उद्योग विभाग में 200 करोड़ रुपए का प्रावधान रखा गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें