बिहार में पुलिस एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड के लिए अब से डॉयल 112, तत्काल मिलेगी मदद

Haimendra Singh, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 10:39 AM IST
  • जल्द ही बिहार में आपातकालीन सेवाओं के लिए 112 ही डायल करना होगा. इस हेल्पलाइन नंबर पर पुलिस, फायर ब्रिगेड, एंबुलेंस जैसी आपातकालीन सेवाएं तत्काल उपलब्ध कराई जाएंगी. इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम के लिए 400 गाड़ियों को खरीदने का खरीदने की बात कही गई है.
बिहार आपातकालीन सेवा के लिए डायल 112.( सांकेतिक फोटो )

पटना. बिहार में पुलिस, एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड जैसी आपातकालीन सेवाओं के लिए अब सिर्फ 112 ही डायल करना होगा. जल्द ही यह सेवा पूरे राज्य में शुरू होने जा रही है. बिहार पुलिस ने इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम (ईआरएसएस) के लिए 400 गाड़ियों को खरीदने का ऑर्डर दे दिया है. इस योजना के जरिए बिहार सरकार का मकसद है कि इस इमरजेंसी की स्थिति में जल्द से जल्द लोगों को सुविधाएं मिल सकें. पायलट प्रोजेक्ट के जरिए राज्य में बड़े पैमाने पर कमांड एवं कंट्रोल रूम स्थापित किया जा रहा है. दस जिलों से शुरूआत के बाद जल्द ही इस योजना को पूरे सूबे में शुरू कर दिया जाएगा.

आपातकीन सेवा के लिए 112 नंबर स्थापित करने के पीछे जानकारों का मत है कि अलग-अलग तरह की आपातकालीन स्थिति में लोगों को कन्फ्यूजन हो जाती है कि ऐसी स्थिति में कौन-सा नंबर डायल किया जाए. डायल 112 की व्यवस्था काफी हाईटेक है. और इससे ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) से इसे जोड़ा गया है. इससे फोन करनेवाले का लोकेशन भी उसके कॉल के साथ कमांड सेंटर को मिल जाएगा. इससे रिस्पांस टाइम कम लगेगा. बता दें कि अभी पुलिस के लिए 100, एम्बुलेंस के लिए 108 और आग लगने पर फायरबिग्रेड की मदद के लिए 101 नम्बर डायल करना पड़ता था.

नीतीश कुमार के जनता दरबार में 6 लोग कोरोना पॉजिटिव, CM करेंगे बैठक, बढ़ सकती है सख्ती

24 घंटे 7 दिन काम करेगा कंट्रोल रुप

इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम को सुचारू रुप से चलाने के लिए राज्य व जिला स्तर पर कमांड एंड कंट्रोल सेंटर बनाये जे रहे हैं. राज्य स्तरीय सेंटर राजवंशी नगर में स्थित वायरलेस मुख्यालय के परिसर में होगा, जिससे आनेवाले दिनों में इसे राजीव नगर थाना के पास शिफ्ट किया जाएगा. यह सेंटर 24 घंटे और 7 दिन काम करेगा. यहां एक शिफ्ट में कम से कम 125 व्यक्ति काम करेंगे जो अलग-अलग जिम्मेदारियों को निभाएंगे. इसके लिए पुलिसकर्मियों का चयन कर लिया गया है जिन्हें ट्रेनिंग दी जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें