बिहार पंचायत चुनाव: 15 जून से पहले हो सकती है वोटिंग, प्रतिनिधियों का कार्यकाल हो रहा खत्म

Smart News Team, Last updated: Sat, 29th May 2021, 9:02 AM IST
  • बिहार के पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल 15 जून को खत्म हो रहा है. वहीं इसके खत्म होने से पहले बिहार पंचायत चुनाव प्रक्रिया शुरू हो सकती है. साथ ही बिहार सरकार पंचायती राज कानून में संसोधन करके पचायत के अधिकार बीडीओ और डीडीसी को दे सकती है.
बिहार पंचायत चुनाव 2021: 15 जून को खत्म हो रहा पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल

पटना. बिहार के पंचायत प्रतिनिधियों की अवधि 15 जून को समाप्त होने जा रही है, लेकिन अभी तक पंचायत चुनाव को लेकर कुछ साफ नहीं हो सका है कि यह कब होगा. वहीं अब ये कयास लगाए जा रहे है कि इसे 15 जून से पहले शुरू कर दिया जाएगा. वहीं अगर पंचायत प्रतिनिधियों के कार्याकाल के समाप्ति तक चुनाव नहीं होते है तो सरकार पंचायती राज कानून में संसोधन करके अध्यादेश ला सकती है. जिसको लेकर भी सरकार की अभी तक कोई तैयारी देखने को नहीं मिली है. 

वहीं यह भी कहा कि रहा है कि सरकार पंचायत प्रतिनिधियों के कार्यकाल के समाप्त होने के पहले चुनाव प्रक्रिया शुरू कर सकती है. जिसे डेढ़ दो महीने में पूरा कर लिया जाएगा. वहीं पंचायती राज प्रतिनिधियों के लिए हर 5 साल पर करीब 2.5 लाख पदों पर चुनाव होता है. जिसमे हर गांव में 6 पदों के लिए निर्वाचन होता है. जिसमें ग्राम प्रधान, सरपंच, पांच, वार्ड सदस्य, पंचायत समिति सदस्य और जिला पार्षद पद पर चुनाव होता है. वहीं अब इनका कार्यकाल 15 जून को समाप्त हो रहा है. 

सुप्रीम कोर्ट का आदेश, सात साल से कम सजा मामले में बिना कारण न हो गिरफ्तारी

वहीं अगर बिहार सरकार अध्यादेश लाकर पंचायती राज कानून में संसोधन कर देती है तो यह चुनाव कुछ महीनों के लिए आगे बढ़ जाएगा. इतना ही नहीं अध्यादेश लाने के बाद पंचायत प्रतिनिधियों को मिले अधिकार को बीडीओ और डीडीसी को दे दिया जाएगा. जिसके बाद यह ग्राम की सभी कार्य इनकी देख रेख में ही होगा. साथ ही ये अधिकार इनके पास तब तक रहेंगे जब तक पंचायत चुनाव नहीं हो जाते है.

VIDEO: पटना में यास का कहर, जय प्रभा अस्पताल में घुसा पानी, तैरती दिखीं दवाईयां

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें