बिहार पंचायत चुनाव में देरी तय, EVM खरीद मामला ना सुलझा तो टलेंगे ये इलेक्शन भी

Smart News Team, Last updated: 08/04/2021 09:28 AM IST
  • बिहार पंचायत चुनाव में ईवीएम खरीद को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग और भारतीय इलेक्शन कमीशन में सहमति नहीं बनने के कारण चुनाव में देरी होना तय है. वहीं अगर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में देरी होती है तो बिहार का एक और चुनाव भी लटक सकता है.
बिहार पंचायत चुनाव के साथ एक ये चुनाव में भी होगी देरी.

पटना. बिहार पंचायत चुनाव में ईवीएम मशीन खरीद को लेकर पटना हाईकोर्ट में बुधवार को भी सुनवाई नहीं हो सकी. वहीं भारत निर्वाचन आयोग और बिहार राज्य निर्वाचन आयोग के बीच ईवीएम खरीद को लेकर किसी अन्य विकल्प को तलाशना होगा. हाईकोर्ट का फैसला अगर राज्य निर्वाचन आयोग के पक्ष में जाता है तो भी समय पर चुनाव कराना मुश्किल होगा. पंचायती राज विभाग ने चुनावों को लेकर तैयारियां शुरू कर दी है.

बता दें कि पंचायती राज संस्थानों के चुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग पहली बार ईवीएम का इस्तेमाल करने जा रहा है. चुनाव के लिए एक विशेष तकनीक युक्त ईवीएम मशीनों की जरूरत है जिसे सिक्योर्ड डिटैचेबल मेमरी मॉड्यूल प्रणाली कहा जाता है. इन ईवीएम मशीनों की आपूर्ति करने के लिए हैदराबाद की एक कंपनी भी तैयार है. वहीं इसकी खरीद को लेकर भारत निर्वाचन आयोग मंजूरी देने के लिए तैयार नहीं है. 

बिहार विधानसभा स्पीकर का निर्देश- सदन की सुरक्षा के लिए बनाएं वॉच टावर

हाईकोर्ट अगर राज्य निर्वाचन आयोग के पक्ष में भी फैसला देता है तो जिस मॉडल की ईवीएम की जरूरत है उन्हें बनाने के लिए एक महीने का टाइम चाहिए होगा. वहीं राज्य में एक साथ छह श्रेणियों के ढ़ाई लाख पदों पर चुनाव कराने है. मामले पर जिस तरह से दिन बीत रहे हैं ऐसे में जून महीने तक चुनाव कराना आयोग के लिए चुनौतीपूर्ण होगा. 

कोरोना से लड़ने को अपराधियों से PPE किट पहनकर पूछताछ करेगी रांची पुलिस

बिहार पंचायत चुनाव में देरी होने के कारण बिहार विधान परिषद में स्थानीय निकाय कोटी की सीटों पर होने वाले चुनावों में देरी हो सकती है. इन सीटों पर भी कुछ महीनों में निर्वाचित विधान पार्षदों का कार्यकाल खत्म होने वाला है. 

डीएम के आदेश के बावजूद भी पटना विमेंस कॉलेज खुला, परीक्षा देने पहुंची छात्राएं 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें