पटना गांधी मैदान ब्लास्ट केस: चार दोषियों को फांसी की सजा, दो को उम्रकैद

Smart News Team, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 4:56 PM IST
  • पटना के गांधी मैदान में पीएम नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली में हुए बम ब्लास्ट में एनआईए कोर्ट ने चार दोषियों को फांसी, दो को उम्रकैद जबकि दो दोषियों को 10 साल की सजा सुनाई है. वहीं एक आरोपी को सात साल जेल की सजा मिली है.
एनआईए कोर्ट ने किया सजा का ऐलान

पटना. बिहार की राजधानी पटना के गांधी मैदान में पीएम नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली में हुए बम ब्लास्ट मामले में एनआईए कोर्ट ने दोषी करार 9 लोगों की सजा का ऐलान कर दिया है. अदालत ने चार दोषी इम्तियाज अंसारी, हैदर अली उर्फ ब्लैक ब्यूटी और मुजीबुल्लाह अंसारी को फांसी की सजा सुनाई है. जबकि दो दोषी उमर सिद्दीकी और अजहरुद्दीन को उम्रकैद और अहमद हुसैन व फिरोज असलम को 10 साल की सजा सुनाई है. वहीं एक दोषी इफ्तेखार आलम को सात साल की सजा सुनाई गई है.

गौरतलब है कि 27 अक्टूबर साल 2013 में पीएम नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली के दौरान पटना के गांधी मैदान और पटना जंक्शन पर बम ब्लास्ट हुआ था. इस हमले में 6 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 89 लोग घायल हुए थे. अब आठ साल बाद एनआईए कोर्ट ने इस मामले में दोषियों के खिलाफ सजा का ऐलान किया है. इससे पहले बुधवार को अदालत ने 9 आरोपियों को दोषी करार दिया था जबकि एक आरोपी को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था.

छठ पर्व को लेकर प्रशासन की बढ़ी चुनौती, पटना के 92 घाट बस 30 पर हुआ काम

मालूम हो कि 27 अक्टूबर 2013 को भाजपा की हुंकार रैली में सीरियल बम ब्लास्ट ने पूरे बिहार को हिला दिया था. बम ब्लास्ट की शुरुआत सबसे पहले पटना जंक्शन के 10 नंबर प्लेटफार्म के शोचालय में बम विस्फोट के साथ हुई, उसके बाद ग़ांधी मैदान में चली रैली में सीरियल बम ब्लास्ट हुआ था. मामले की जांच करते हुए NIA ने इस कांड में 187 अभियोजन गवाह पेश किए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें