पटना

रैंकिंग ग्राफ में फिर नीचे फिसला पटना आईआईटी, हो सकता है ये बड़ा नुकसान

Smart News Team, Last updated: 12/06/2020 03:00 PM IST
  • पटना आईआईटी की इंजीनियरिंग श्रेणी में आई ताजा रैंकिंग ने एक बार फिर सवाल खड़े कर दिए हैं। इस साल संस्थान की रैंकिंग और नीचे फिसलकर 26वें स्थान पर पहुंच गई है।
पटना आईआईटी रैंकिंग ग्राफ में लगातार नीचे गिर रहा है। 

पटना. राजधानी पटना स्थित आईआईटी की इंजीनियरिंग श्रेणी में आई एएफआईआर की ताजा रैंकिंग ने एक बार में संस्थान पर सवाल खड़े कर दिए हैं। इस साल रैंकिंग और नीचे फिसलकर 26वें स्थान पर पहुंच गई है। पिछले 5 साल की रैंकिंग पर नजर डालें तो हर साल संस्थान लगातार रैंकिंग में निचले स्तर पर जा रहा है। हालांकि इस संबंध में आईआईटी से जुड़े अधिकारी पूरे अध्ययन के बाद ही रैंकिग को लेकर किसी तरह की प्रतिक्रिया देने की बात कर रहे हैं।

गौरतलब है कि आईआईटी पटना को इंजीनियरिंग कैटेगरी में दसवीं रैंकिंग मिली थी वहीं 2017 में 19वीं रैंक और 2018 में रैंकिंग का ग्राफ गिरकर 24वे नंबर पर पहुंच गया। हालांकि 2019 में 2 अंक ऊपर चढ़कर ग्राफ 22वें नंबर पर पहुंचा लेकिन 2020 में 4 अंक की फिसलन ने एक बार फिर रैंकिंग को लेकर आईआईटी पटना की तैयारियों और कार्यों पर सवाल खड़े कर दिए।

विशेषज्ञों की मानें तो इंजीनियरिंग कैटगिरी में रैंकिंग की फिसलन का असर भविष्य में दूसरे राज्यों के छात्रों के बीच आईआईटी पटना की लोकप्रियता और कैंपस सिलेक्शन के लिए आने वाली कंपनियों के संस्थान के प्रति झुकाव पर पड़ सकता है। विशेषज्ञ का कहना है कि जो भी कंपनियां कैंपस सिलेक्शन के लिए आती हैं उनकी नजर संस्थान की रैंकिंग पर बनी रहती है।

5 एनआईटी भी रैंकिग के मामले में आईआईटी पटना से ऊपर

अगर साल 2020 की रैंकिंग पर नजर डालें तो देश की पांच एनआईटी की रैंकिंग भी पटना आईआईटी से बेहतर है। रैंकिंग में आईआईटी पटना को एनआईटी त्रिची, एनआईटी सुरथकल, एनआईटी राउरकेला, एनआईटी कालीकट और एनआईटी वारंगल ने पछाड़ दिया है।

अन्य खबरें