बोधगया ब्लास्ट आरोपियों को सजा! 3 को उम्रकैद, 5 को 10 साल की जेल

Smart News Team, Last updated: Sat, 18th Dec 2021, 9:30 AM IST
  • बिहार के गया महाबोधि मंदिर में 19 जनवरी 2018 को विस्फोट और बमों की बरामदगी मामले में पटना की विशेष नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) अदालत ने 3 दोषियों को उम्रकैद की सजा दी है. साथ ही 5 दोषियों को 10-10 साल जेल की सजा सुनाई है. विशेष न्यायाधीश गुरविंदर सिंह मल्होत्रा की अदालत ने शुक्रवार को सजा का ऐलान किया है. अदालत ने 10 दिसंबर को सभी को अलग-अलग धाराओं में दोषी करार दिया था. फिलहाल अभी पटना के बेऊर जेल में बंद हैं.
बोधगया ब्लास्ट: 3 को उम्रकैद, 5 को 10 साल जेल

पटना (बोधगया). बिहार के गया महाबोधि मंदिर में 19 जनवरी 2018 को विस्फोट और बमों की बरामदगी मामले में पटना की विशेष नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) अदालत ने 3 दोषियों को उम्रकैद की सजा दी है. साथ ही 5 दोषियों को 10-10 साल जेल की सजा सुनाई है. विशेष न्यायाधीश गुरविंदर सिंह मल्होत्रा की अदालत ने शुक्रवार को सजा का ऐलान किया है. अदालत ने 10 दिसंबर को सभी को अलग-अलग धाराओं में दोषी करार दिया था. फिलहाल अभी पटना के बेऊर जेल में बंद हैं.

दोषियों ने कबूला अपना अपराध

इस मामले के 9 लोग आरोपित हैं, जिनमें से 8 ने न्यायालय में पेशी के दौरान आवेदन दाखिल कर अपना अपराध कबूल किया था. कबूलनामे में यह भी कहा था कि उन्होंने बहकावे में आकर यह अपराध किया है और गिरफ्तारी के बाद लगातार जेल में बंद हैं. अब अपने समाज में वापस लौट कर सामान्य जीवन जीना चाहते हैं. बता दें कि, इन सभी को IPC की विभिन्न धाराओं, गैरकानूनी गतिविधि (निवारण) अधिनियम और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत दोषी करार दिया गया है. मामले में नौवें आरोपी जाहिद उल इस्लाम ने अपना जुर्म नहीं कबूला है. उसके खिलाफ सुनवाई जारी रहेगी. इस घटना से पूर्व महाबोधि मंदिर परिसर में वर्ष 2013 में भी बम विस्फोट की घटना हुई थी.

अंतरराज्यीय वाहन चोर गैंग का पर्दाफाश, सरगना समेत 7 अरेस्ट, बिहार से चोरी कर UP बेचते थे गाड़ियां

इन धाराओं में मिली सजा

तीन आरोपितों पैगंबर शेख, अहमद अली व नूर आलम को भादवि की धारा 121A,121 122 123, यूएपीए एक्ट की धारा 16, 18 और 20 तथा विस्फोटक अधिनियम 4-5 के तहत दोषी पाने पर सजा सुनाई. भादवि की धारा 121 के तहत इन तीनों को उम्र कैद की सजा दी गई.

इन तीनों को उम्रकैद

1. पैगंबर शेख

2. अहमद अली

3. नूर आलम

इन पांच को 10 साल की सजा

1. आरिफ हुसैन

2. मुस्तफिज रहमान

3. अब्दुल करीम

4. दिलावर हुसैन

5. आदिल शेख

आतंकियों के सेल की सुरक्षा बढ़ाई

बोधगया ब्लास्ट के दोषियों को सजा के बाद बेउर जेल भेज दिया गया. इन आठों आतंकियों को हाई सिक्योरिटी सेल में रखा गया है. सेल के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. जेल के बाहर BMP जवानों को तैनात किया गया है, जबकि जेल के अंदर कक्षपालों सेल की निगरानी में तैनाती कर दी गई है. CCTV कैमरे से उन पर नजर रखी जा रही है. बस से उतरने के बाद उनकी कड़ी तलाशी ली गई. इसके बाद उन्हें खाने को भेजा गया. उम्रकैद की सजा पाने वाले आतंकी अहमद अली, पैगंबर शेख व नूर आलम ने भोजन नहीं किया.

दलाई लामा और बिहार के राज्यपाल के खिलाफ थी साजिश

मामला मंदिर परिसर और उसके आसपास तीन IED लगाने से संबंधित है. दोषियों ने दलाई लामा और बिहार के राज्यपाल की यात्रा के दौरान मंदिर परिसर में IED लगाकर साजिश रची थी. घटना 19 जनवरी 2018 की है, जब महाबोधि मंदिर में बौद्ध धर्मावलंबियों की निगमा पूजा का आयोजन था. इसमें दलाई लामा भी शामिल हुए थे.

मालूम हो कि, कालचक्र मैदान के गेट नंबर पांच पर पाया गया पहला IED निष्क्रिय किए जाने दौरान फट गया था. श्रीलंकाई मठ के पास और महाबोधि मंदिर के गेट नंबर 4 की सीढ़ियों से दो और IED बरामद किए गए थे. NIA ने जांच के दौरान अभियुक्तों की गिरफ्तारी करने के बाद 9 के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें