PMCH में सीनियर्स ने रैगिंग के नाम पर फर्स्ट ईयर के छात्रों के साथ की अश्लील हरकत, जांच शुरू

Prince Sonker, Last updated: Fri, 17th Sep 2021, 12:39 AM IST
  • पीएमसीएच में प्रथम वर्ष के दो छात्रों के साथ रैगिंग का मामला सामने आते ही हड़कंप मच गया है. पीड़ित छात्रों ने एनएमसी को पत्र लिखकर पूरे मामले से अवगत कराया है. एनएमसी ने शिकायत पर पीएमसीएच प्रशासन से मामले की रिपोर्ट मांगी है.
पटना मेडिकल कॉलेज में छात्रों से रैगिंग. (फाइल फोटो)

पटना. पटना मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस के दो छात्रों के साथ रैगिंग होती रही लेकिन कॉलेज प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं पड़ी. रैगिंग से पीड़ित छात्रों ने नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) से शिकायत की तो मामला उजागर हुआ. एनएमसी ने मामला दर्ज करते हुए पीएमसीएच के प्राचार्य से कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है. इसके बाद पीएमसीएच प्रशासन हरकत में आया और एंटी रैगिंग सेल की बैठक बुलाई. सूत्रों के मुताबिक एंटी रैगिंग कमेटी ने प्रथम वर्ष के छात्रों को बुलाकर रैगिंग को लेकर एनएमसी को भेजी गई शिकायत के बारे में पूछा. बैठक में यह भी निर्णय लिया गया है कि इस बात पर सख्ती से अमल किया जाएगा कि आने वाले दिनों में कैंपस में रैगिंग की घटना न हो.

बात दें कि रैगिंग का मामला पीएमसीएच में नया नहीं है. हर साल पीएमसीएच में रैगिंग की घटनाएं सामने आ जाती हैं. लेकिन इस बार मामला गंभीर है. सूत्रों के अनुसार सीनियर ने छात्रों के साथ इस बार अश्लील हरकत की है जिसे पीड़ित छात्र खुले तौर पर बता भी नहीं पा रहे हैं. दोनों छात्र पटना में किराए के रूम पर रहते हैं. वहीं घटना के बाद से पीड़ित छात्रों में दहशत है. उन्हें डर है कि कॉलेज प्रशासन से शिकायत करने पर सीनियर उन्हें और परेशान कर सकते हैं. इसलिए उन्होंने पीएमसीएच प्रशासन के पास शिकायत दर्ज कराने के बदले एनएमसी को पत्र लिखा है.

नीतीश सरकार के शराबबंदी कानून पर मांझी ने खड़े किए सवाल, कहा- गरीब लोगों को फंसाया जा रहा

आरोप सही पाए जाने पर हो सकती है कठोर कार्रवाई

सूत्रों का मानना है कि अगर पीड़ित छात्र सकॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी के सामने आकर बयान देते हैं तो आरोपी छात्र या छात्रा को एक साल के लिए कॉलेज से निकाला जा सकता है. पीड़ित के साथ मारपीट के मामले पर पूरी डिग्री ही निरस्त की जा सकती है. पीड़ित छात्र चाहें तो आरोपित सीनियर छात्रों पर एफआईआर भी करवा सकता है.

सोशल मीडिया पर बिहार पंचायत चुनाव प्रचार की धूम, प्रत्याशियों ने वोटरों को भेजी दिवाली-छठ, ईद तक की बधाई

सीनियर करते हैं छात्रों पर भद्दे कमेंट और मारपीट

एनएमसी की शिकायत में पीड़ित छात्रों ने आरोप लगाए हैं कि उनके सीनियर, छात्रओं पर भद्दे कमेंट करते हैं और डराते धमकाते हैं. जब से कॉलेज में ऑफलाइन पढ़ाई शुरू हुई है तब से उनके साथ दो बार मारपीट की जा चुकी है. उन्हें फोन करके क्लास न आने की धमकी दी जाती है.

वहीं इस मसले पर पीएमसीएच के प्राचार्य डॉ विद्यापति चौधरी का कहना है कि एनएमसी से मिले पत्र के अनुसार जांच की गई है. हालांकि जिन छात्रों ने शिकायत की है,अभी वह खुलकर सामने नहीं आ रहे हैं. छात्रों को कोई परेशानी न हो इसलिए उनकी सुरक्षा बढ़ा दी गई है. सीनियर छात्रों को भी फटकार लगाई गई है. जांच जारी है. मामला सही पाया गया तो आरोपी छात्रों पर कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें