सुबह DGP साहब ने बेटियों के भागने पर टोका, दोपहर में दारोगा ने थाने में रचाई प्रेमिका से शादी

Atul Gupta, Last updated: Thu, 30th Dec 2021, 10:40 PM IST
  • गुरूवार को बिहार के डीजीपी एके सिंघल ने कहा कि बेटियां बिना माता-पिता की मर्जी के शादी के लिए घर से निकल जाती हैं जिसका कई बार दुखद परिणाम निकलता है वहीं दोपहर को सिवान में दारोगा ने अपनी प्रेमिका से थाने में शादी की क्योंकि लड़की के घरवाले नहीं मान रहे थे.
शादी के बाद दारोगा राहुल और उनकी पत्नी तब्बू (फोटो- सोशल मीडिया)

पटना: बिहार के डीजीपी एके सिंघल ने गुरुवार को कहा कि बेटियां बिना माता-पिता की अनुमति के शादी के लिए घर से निकल जाती हैं जिसका परिणाम कई बार बहुत दुखद होता है. दोपहर होते-होते बिहार पुलिस के ही जवान ने बिना बताए घर से निकली युवती से शादी रचा ली. बिहार के चुलबुल पांडे ने अपनी लव स्टोरी ऑन कैमरा बताई है. हुआ ये कि सीवान के महाराज गंज थाने में प्रशिक्षु एएसआई राहुल भारती पिछले कुछ सालों से तब्बू नाम की लड़की के साथ रिलेशनशिप में थे. दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे और शादी भी करना चाहते थे लेकिन लड़की के घरवाले तैयार नहीं थे. लड़की के घरवालों ने लड़की की शादी कहीं और तय करने की कोशिश की तो लड़की बिना घर पर बताए निकल आई और सिवान पहुंच गई जहां राहुल भारती रहते थे. सीवान पहुंचकर दोनों ने शादी का फैसला किया और बाराती बन गए पुलिस वाले. महाराजगंज थाने में ही दोनों की शादी करवाई गई.

खबर है कि शादी की सूचना पर लड़की के पिता जीबीनगर थाने पहुंचे और एसपी से इसकी शिकायत की. बताया जा रहा है कि लड़की के पिता ने एसपी से कहा कि जब पुलिस ही लड़कियों को बहला फुसलाकर शादी करने लगेगी तो किसी भी पिता का भरोसा पुलिस से उठ जाएगा. इस घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल है जिसमें शादी के बाद राहुल और तब्बू एक दूसरे के साथ नजर आ रहे हैं.

इस दौरान राहुल बता रहे हैं कि पिछले ढाई साल से उनका अफेयर चल रहा था. उनसे जब ये पूछा गया कि इस तरह शादी क्यों की तो उन्होंने बताया कि युवती की शादी उसके घरवाले कहीं और करवा रहे थे. इस दौरान उनकी प्रमिका घर से सिवान चली आईं और कहा कि हम यहीं शादी करेंगे, हमें अपने घरवालों से कोई मतलब नहीं. राहुल ने बताया कि लड़की के घरवालों को अंतर्रजातीय होने की वजह से उन्हें शादी मंजूर नहीं थी इसलिए उन्होंने ऐसे शादी की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें