बिहार पुलिस की अपराध पर लगाम लगाने की तैयारी, दोबारा आया नाम तो रद्द होगी जमानत

Smart News Team, Last updated: Tue, 9th Feb 2021, 4:04 PM IST
  • बिहार में अपराध को कम करने के लिए पुलिस अपराधियों की जमानत रद्द करेगी . डीजीपी सिंघल ने सभी जिलों के एसपी को इस मुहिम को शुरू करने के निर्देश दिए हैं. अपराध को लगाम लगाने के लिए डीजीपी ने कई बिंदुओं के निर्देश दिए हैं.
बिहार में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने जमान रद्द करने की मुहिम की तैयारी शुरू कर दी जाए. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में अपराध को कम करने के लिए बिहार पुलिस 9 साल पहले शुरू की गई मुहिम को फिर से शुरू करने जा रही है. एक अपराध में जमानत मिलने के बाद अगर अपराधी के किसी दूसरे अपराध में शामिल होने के सबूत मिलते हैं तो उसकी पहली जमानत रद्द कर दी जाएगी. इसके बाद वकील को भी जमानत लेना मुश्किल होगा. बिहार डीजीपी ने जिलों के एसपी को अपराध को अंकुश लगाने के लिए कई बिंदुओं पर निर्देश दिए हैं.

डीजीपी एसके सिंघल ने बिहार में अपराध पर लगाम लगाने के लिए पुलिस हेडक्वार्टर में तैनात पुलिस अफसरों और सभी जिलों के एसपी को अपराधियों की गिरफ्तारी, जल्द जांच और स्पीडी ट्रायल पर फोकस करने के आदेश दिए हैं. डीजीपी ने आदतन अपराधियों की जमानत रद्द कराने की मुहिम को फिर से चलाने के निर्देश दिए हैं.

बिहार कैडर के 12 IAS जाएंगे प्रशिक्षण पर, मसूरी में होगा कार्यक्रम

इस मुहिम के अनुसार, जमानत मिलने के बाद दोबारा अपराध में शामिल होने के सबूत मिलते हैं तो पहले मामले की जमानत रद्द की जा सकती है. इसके लिए पुलिस कोर्ट से जमानत रद्द करने की अपील करेगी. अगर ठोस सबूत मिलते हैं तो पुराने केस में जमानत रद्द की जा सकती है. ऐसा होने पर वकीलों के लिए जमानत लेना आसान नहीं होगा.

पटना में स्कूल से वापस लौटे छात्र, कमरों में पुलिस के रुकने से नहीं हुई पढ़ाई

अपराधियों की जमानत रद्द करने के लिए आइजी बीएमपी एमआर नायक नोडल पदाधिकारी बनाए गए हैं. जिला पुलिस और कोर्ट के बीच की कड़ी के तौर पर वो इस मुहिम को आगे बढ़ाएंगे. इसके लिए प्रयास भी शुरू कर दिए गए हैं. अपराधियों को जमानत रद्द कराने की मुहिम तत्कालीन डीजीपी अभयानंद ने इसके लिए एक टीम तैयार की थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें