बिहार पुलिस में अब बिना ट्रेनिंग पूरी किए किसी भी सिपाही की नहीं लगेगी ड्यूटी

Uttam Kumar, Last updated: Thu, 30th Sep 2021, 2:28 PM IST
बिहार पुलिस ने ट्रेनिंग के लिए नई योजना तैयार की है. नई योजना के तहत बिना ट्रेनिंग पूरा हुए किसी भी जवान को किसी भी छोटे या बड़े कार्यक्रम में ड्यूटी पर नहीं लगाया जाएगा. साथ ही बिहार पुलिस विभाग में कई पदों पर प्रोन्नति के लिए ट्रेनिंग अनिवार्य कर दिया गया है. 
बिहार पुलिस विभाग बिना ट्रेनिंग पूरा हुए किसी भी जवान को किसी भी छोटे या बड़े कार्यक्रम में ड्यूटी पर नहीं लगाया जाएगा. (प्रतिकात्मक फोटो)

पटना. बिहार पुलिस अब अपने जवानों की ट्रेनिंग पर फोकस कर रही है. सिपाही से लेकर दरोगा और डीएसपी को बेहतर ट्रेनिंग मिल सके इसके लिए पुरी योजना तैयार की जा चुकी है. धीरे- धीरे इन योजना को लागू किया जा रहा है. योजना के तहत बिहार पुलिस विभाग में कई पदों पर प्रोन्नति के लिए ट्रेनिंग अनिवार्य कर दिया गया है. साथ ही बिना ट्रेनिंग पूरा हुए किसी भी जवान को किसी भी छोटे या बड़े कार्यक्रम में ड्यूटी पर नहीं लगाया जाएगा.

ट्रेनिंग को लेकर बनाई गई योजना का असर बिहार पंचायत चुनाव में भी देखने को मिला. बिहार पुलिस में हाल में ही 11 हजार से ज्यादा सिपाहियों की बहाली हुई है. अगस्त में इनकी ट्रेनिंग भी शुरू हो गई है. लेकिन पंचायत चुनाव से किसी भी नए जवान को नहीं लगाया गया. नए जवानों को पुरी ट्रक पंचायत चुनाव से दूर रखा गया. ट्रेनिंग पुरी होने के बाद ही इन सभी को किसी तरह की सुरक्षा या किसी तरह के विधि-व्यवस्था संभालने के लिए लगाया जाएगा. 

नए बस स्टैंड बैरिया में एजेंटों के बीच विवाद, आधा दर्जन राउंड फायरिंग से मची अफरा-तफरी

बिहार पुलिस विभाग में सिपाही का ट्रेनिंग 270 दिनों का होता है. बिहार में सिपाहियों की ट्रेनिंग सीटिएस नाथनगर (CTS Nathnagar), डुमराव एमपीटीसी(M.P.T.C.-DUMRAON), सिमुलतला में होता था. अब सिपाहियों की ट्रेनिंग के लिए बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस (Bihar Special Armed Police) के बटालियन मुख्यालय में ट्रेनिंग सेंटर बनाया गया है. इसके साथ ही राजगीर स्थित पुलिस अकादमी में भी अब सिपाहियों को ट्रेनिंग दी जाएगी. अभी तक राजगीर स्थित पुलिस अकादमी में सिर्फ अफसरों की ट्रेनिंग होती है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें