बिहार: ई-वेस्ट पर इलेक्ट्रॉनिक कंपनी का फर्जीवाड़ा, BPCB ने जारी किया नोटिस

Smart News Team, Last updated: 09/09/2020 03:15 PM IST
  • बिहार में ई-वेस्ट को लेकर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों का बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद दर्जनभर इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बनाने वाली कंपनियों पर जल्द ही शिकंजा कसने वाला है. राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने (BPCB) दर्जनभर कंपनियों को नोटिस जारी करते हुए कहा है कि 20 सितंबर तक कलेक्शन सेंटर का सही ब्योरा दें.
राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद दर्जनभर इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बनाने वाली कंपनियों पर कसेगा शिकंजा.

पटना.  बिहार में ई-वेस्ट को लेकर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों का बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. जानकारी के अनुसार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद दर्जनभर इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद बनाने वाली कंपनियों पर जल्द ही शिकंजा कसने वाला है. राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने (BPCB) दर्जनभर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों को नोटिस जारी किया है.

इन इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों को अब हर जिले में एक कलेक्शन सेंटर खोलना होगा, जहां वे प्रयोग किए गए उत्पादों को वापस लेंगे. बताया जा रहा है कि इलेक्ट्रॉनिक की यह कंपनियां पिछले कई सालों से लगातार ई-वेस्ट को लेकर आनाकानी कर रही हैं. इन इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों ने 3 बार केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के साथ फर्जावाड़ा किया है. इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को कलेक्शन सेंटरों की वो लिस्ट दी, जो कहीं पूरे राज्य में  थे ही नहीं. 

पांच महीने से लॉकडाउन में बंद पटना का पीएनएम मॉल खुलेगा आज, सेनिटाइजैशन हुआ पूरा

जानकारी के अनुसार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने इन इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों द्वारा दिए गए कलेक्शन सेंटरों की जांच की तो पता चला कि उनमें से ज्यादातर सेंटर के पत्ते फर्जी निकले. बताया गया है कि अब राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने करीब दर्जनभर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों को 20 सितंबर तक की अंतिम मोहलत दी है.

पटना हाईकोर्ट ने कोरोना पर सरकार को लगाई फटकार, कहा-इलाज की स्थिति ठीक नहीं

मिली जानकारी के अनुसार कई इलेक्ट्रॉनिक कंपनियों ने पटना में एक ही कलेक्शन सेंटर होने का दावा किया, लेकिन जांच में पता चला कि उसका भी कोई अता-पता नहीं है.  इसको लेकर राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने दर्जनभर कंपनियों को नोटिस जारी करते हुए कहा है कि 20 सितंबर तक कलेक्शन सेंटरों का सही ब्योरा दें. अगर नहीं दिया तो इन कंपनियों के खिलाफ केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्रवाई करेगा. इनका इंपोर्ट लाइसेंस भी निरस्त किया जा सकता है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें