अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी, 500 पीजी डॉक्टर पोस्टिंग का कर रहे इंतजार

Sumit Rajak, Last updated: Thu, 10th Feb 2022, 10:43 AM IST
  • एक ओर जहां राज्य के अस्पतालों में डाक्टरों की कमी है. वहीं, विशेषज्ञ डॉक्टर अस्पतालों में सेवा देने को तैयार हैं, लेकिन उनकी पोस्टिंग नहीं की जा रही है. राज्य में विभिन्न विषयों के करीब पांच सौ पोस्ट ग्रेजुएट डॉक्टर स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपनी पोस्टिंग किए जाने का इंतजार कर रहे हैं. दूसरी ओर, राज्य स्वास्थ्य समिति ने संविदा पर नियोजन के लिए डॉक्टरों से प्रस्ताव मांगा है.
फाइल फोटो

पटना. एक ओर जहां राज्य के अस्पतालों में डाक्टरों की कमी है. वहीं, विशेषज्ञ डॉक्टर अस्पतालों में सेवा देने को तैयार हैं, लेकिन उनकी पोस्टिंग नहीं की जा रही है. राज्य में विभिन्न विषयों के करीब पांच सौ पीजी (पोस्टग्रेजुएट डॉक्टर )स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपनी पोस्टिंग किए जाने का इंतजार कर रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग ने इन डॉक्टरों के पीजी की पढ़ाई का समय भी 3 महीने के लिए बढ़ाया गया था. इस प्रकार पिछले वर्ष 2021 में ही अलग-अलग तिथियों को पीजी की पढ़ाई समाप्त हो चुकी है. स्वास्थ्य विभाग के नियमों के तहत पीजी के डॉक्टरों की ब्रांड आधारित अनिवार्य पोस्टिंग विभिन्न सरकारी अस्पतालों में की जानी है, जिसको लेकर अब तक कोई पहल नहीं की गई है. दूसरी ओर, राज्य स्वास्थ्य समिति ने संविदा पर नियोजन के लिए डॉक्टरों से प्रस्ताव मांगा है.

राज्य के मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में पीजी डॉक्टरों की परीक्षा पिछले साल ही हुई थी. पिछले 8 सितंबर से परीक्षा लेने का आदेश आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी से जारी किया गया. फिर, अपरिहार्य कारणों से 6 सितंबर की परीक्षा स्थगित कर दी गई.अंततः पीजी मेडिकल की परीक्षा 6 अक्टूबर को हुई. इसके बाद ढाई महीने में ही 22 दिसंबर 2021 को पीजी मेडिकल कोर्स का परीक्षा परिणाम भी जारी कर दिया गया. 

शराब की खेप पकड़ने के लिए नीतीश सरकार का नया प्लान, बनेगा ट्रक स्कैनिंग टनल

पोस्टिंग का इंतजार कर रहे हैं विशेषज्ञ डॉक्टर

पीजी की परीक्षा उत्तीर्ण कर चुके विशेषज्ञ डॉक्टर अनिवार्य पोस्टिंग के इंतजार में हैं. इनको राज्य के विभिन्न अस्पतालों में में तैनात किए जाने से तत्काल मरीजों को विशेष चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा सकती है. इन डॉक्टरों को वर्तमान में पीजी डॉक्टरों को मिलने वाला छात्रवृत्ति भी परीक्षा के पूर्व से ही बंद है, ऐसे में इनके समक्ष आर्थिक संकट बना हुआ है. इन सभी डाक्टरों का सर्टिफिकेट आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी में ही जमा है. इस कारण से वे सरकारी नियमों से पूरी तरह बंधे हुए हैं.

270 विशेषज्ञ डॉक्टरों की संविदा पर नियुक्ति की प्रक्रिया है शुरू 

दूसरी ओर, राज्य स्वास्थ्य समिति संविदा पर नियोजन के लिए डॉक्टरों से प्रस्ताव मांग रही है. राज्य स्वास्थ्य समिति ने 270 विशेषज्ञ डॉक्टरों की संविदा पर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत अस्पतालों में इन्हें बहाल किया जाना है. इसके लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों से ऑनलाइन आवेदन लेने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है. इसके लिए 28 फरवरी तक आवेदन लिए जाएंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें