बिहार से रामविलास पासवान की राज्यसभा सीट पर निर्विरोध जीते BJP के सुशील मोदी

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 06:16 PM IST
  • बिहार से राज्यसभा उपचुनाव में बीजेपी के सुशील मोदी निर्विरोध जीत रहे हैं. प्रस्तावकों के अभाव में निर्दलीय प्रत्याशी श्यामनंदन प्रसाद का नामांकन पत्र रद्द कर दिया गया. आरजेडी समेत विपक्ष से किसी पार्टी ने उम्मीदवार नहीं उतारा है. पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर अब उपचुनाव के लिए मतदान नहीं होगा. सुशील मोदी इकलौते कैंडिडेट हैं और इस सीट से बिना वोटिंग के दिल्ली जा रहे हैं.
राज्यसभा उपचुनाव में सुशील मोदी निर्विरोध जीते.

पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट के उपचुनाव में बीजेपी उम्मीदवार सुशील मोदी निर्विरोध जीत रहे हैं. मैदान में एक ही और कैंडिडेट थे लेकिन शुक्रवार को नामांकन पत्रों की जांच में निर्दलीय कैंडिडेट श्यामनंदन प्रसाद का नॉमिनेशन रद्द कर दिया गया क्योंकि उनके पास राज्यसभा चुनाव लड़ने के लिए जरूरी दस प्रस्तावक नहीं थे. 

राजद और लोजपा ने राज्यसभा उपचुनाव में कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था. चुनाव आयोग अब प्रक्रिया के तहत उनके चुनाव का औपचारिक ऐलान करेगा लेकिन इकलौते कैंडिडेट होने के बाद सुशील मोदी की राह में कोई रोड़ा नहीं है और वो जीत चुके हैं. महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव की आरजेडी ने एलजेपी अध्यक्ष चिराग पासवान की मां रीना पासवान को राज्यसभा भेजने की पहल की थी लेकिन रामविलास पासवान की पत्नी और लोजपा दोनों ने ऑफर को ठुकरा दिया. 

क्या सुशील मोदी नाराज हैं ? नीतीश के शपथ में क्या किया, क्या नहीं, पढ़िए, समझिए

बिहार में लालू यादव और राबड़ी देवी के जमाने से बीजेपी-जेडीयू गठबंधन के सूत्रधार रहे सुशील मोदी को बिहार की राजनीति में बीजेपी का सबसे बड़ा नेता माना जाता है. नीतीश कुमार सरकार में कई बार डिप्टी सीएम रह चुके सुशील मोदी को जब इस बार बीजेपी ने केंद्र की राजनीति में आने का इशारा किया तो वो उप-मुख्यमंत्री का पद त्याग कर खामोश रहे. पार्टी ने उनसे पूछकर और उनकी ही पसंद के तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को डिप्टी सीएम बना दिया.

सुशील बोले, डिप्टी CM नहीं तो BJP कार्यकर्ता तो हूं ही, गिरिराज ने कहा-आप नेता हैं

सुशील मोदी का कद बिहार में बीजेपी के किसी भी नेता से बड़ा है. माना जा रहा है कि जब केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार का अगला कैबिनेट विस्तार होगा तो सुशील मोदी केंद्र को सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा. सुशील मोदी के अलावा मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया के भी मंत्री बनने का इंतजार पूरा होना है. चर्चा है कि जेडीयू के भी कुछ सांसद इस बार केंद्र में मंत्री बन सकते हैं.

सुशील मोदी केंद्र में मंत्री बने तो मिलेगा कौन सा विभाग और मंत्रालय ?

अब सबकी नजर सिर्फ इस बात पर होगी कि अगर सुशील मोदी मोदी सरकार में मंत्री बनते हैं तो उनको विभाग और मंत्रालय कौन से मिलेंगे. और क्या वो विभाग मोदी कैबिनेट में शामिल बिहार के ही दूसरे नेताओं से बड़े और महत्वपूर्ण होंगे या रामविलास पासवान वाले होंगे. 

नरेंद्र मोदी कैबिनेट में इस समय बिहार से पांच मंत्री हैं और सारे बीजेपी के ही नेता हैं. बिहार से रविशंकर प्रसाद और गिरिराज सिंह कैबिनेट रैंक के मंत्री हैं. आरके सिंह स्वतंत्र प्रभार दर्जा के राज्यमंत्री हैं. अश्विनी चौबे और नित्यानंद राय राज्यमंत्री हैं. बिहार के सारे मंत्रियों में रविशंकर प्रसाद सबसे सीनियर मंत्री हैं.

बिहार से राज्यसभा सीट के लिए उप-चुनाव कार्यक्रम इस प्रकार था :-

- अधिसूचना- 26 नवंबर 2020

- नामांकन अंतिम तिथि- 3 दिसंबर 2020

- नामांकन पत्र जांच- 4 दिसंबर 2020

- नाम वापसी अंतिम तिथि- 7 दिसंबर 2020

- मतदान- 14 दिसंबर 2020

- मतगणना- 14 दिसंबर 2020, शाम 5 बजे

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें