बिहार के सुदूर ग्रामीण क्षेत्र में शुरू होगी 'ई-संजीवनी' सेवा, ANM होंगी तैनात

Anurag Gupta1, Last updated: Sun, 19th Dec 2021, 8:18 AM IST
  • बिहार सरकार ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य व्यवस्था सुधारने के लिए ई- संजीविनी शुरू करने जा रही है. जिसके लिए एएनएम तैनात की जाएंगी. इस कार्य के लिए एएनएम को 250 रुपये हर माह अलग से दिए जाएंगे और आने वाले मरीजों को 37 तरह की निशुल्क दवाइयां दी जाएंगी.
(प्रतीकात्मक फोटो) 

पटना. बिहार सरकार ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य व्यावस्था सुधारने के लिए काम करने जा रही है. बिहार में सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में जहां कोई भी सरकारी अस्पताल नहीं है, वहां स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने की तैयारी जोरों पर है. ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों में एएनएम की तैनाती की जाएगी जहां स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं है. एएनएम एक स्थान पर चिकित्सा केंद्र संचालित करेंगी और वहां से मरीजों को ‘ई-संजीवनी’ सेवा के माध्यम से चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. इस कार्य के लिए हर माह एएनएम को 250 रूपए अलग से दिए जाएंगे. वहीं आने वाले मरीजों को 37 तरह की निशुल्क दवाईयां दी जाएंगी.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा हर बुधवार और शुक्रवार को विलेज हेल्थ एंड सेनिटेशन डे (वीएचएसएनडी) का आयोजन किया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने राज्य के सभी सिविल सर्जन को राज्य के सुदूर ग्रामीण इलाकों के व्यक्तियों को ‘ई-संजीवनी’ सेवा के माध्यम से चिकित्सकीय परामर्श उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. सुबह नौ बजे से चार बजे तक यह सेवा दोनों दिन उपलब्ध कराई जाएगी. इसके लिए एएनएम समय से चिकित्सा केंद्र स्थल पर पहुंचकर कार्यक्रम का संचालन करेंगी. चिकित्सा केंद्र स्थल को जिला स्तरीय हब से संबंध्द किया गया है.

CM नीतीश का 5 लाख गन्ना किसानों को तोहफा, इस निर्णय से बढ़ेगी आमदनी

इसके लिए जिला स्तरीय हब में अतिरिक्त चिकित्सा पदाधिकारियों को पंजीकृत किया गया है. विभागीय सूत्रों के अनुसार इस सेवा की शुरूआत ट्रायल के बाद जल्द ही की जाएगी. इसके लिए सभी सिविल सर्जन को माइक्रो प्लान तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं.

डाक्टरों को करना ‘ई-संजीवनी’ लॉगिन:

विभाग ने जिला स्तरीय हब में तैनात डॉक्टरों को को चिकित्सकीय परामर्श देने के लिए टैबलेट व लैपटॉप देने के निर्देश दिए हैं. जिन डॉक्टरों को चुना जाएगा उन्हें हर बुधवार और शुक्रवार को ई-संजीवनी लॉगिन करना होगा. कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए राज्य के सभी चयनित चिकित्सा पदाधिकारी, एएनएम, सीएचओ सहित अन्य कर्मियों को प्रशिक्षण देने का निर्देश दिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें