Bihar STET: पटना में अभ्यर्थियों का भारी हंगामा, पुलिस ने भांजी लाठियां, कई घायल

Naveen Kumar, Last updated: Thu, 24th Feb 2022, 3:57 PM IST
  • पटना सचिवालय के शिक्षा विभाग के सामने एसटीईटी प्रमाणपत्र में मेरिट और नॉन मेरिट उल्लेख को लेकर अभ्यर्थियों ने खासा हंगामा किया. इस दौरान पुलिस ने भी अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज कर दिया, जिससे मौके पर अफरा तफरी मच गई.
अभ्यर्थी को घसीटती पुलिस

पटना. बिहार STET परीक्षा 2019 के सर्टिफिकेट से मेरिट और नॉन मेरिट का कॉलम हटाने की मांग को लेकर गुरुवार को जमकर हंगामा हुआ. सैकड़ों की संख्या में एसटीईटी पास अभ्यर्थी पटना सचिवालय के शिक्षा विभाग के सामने प्रदर्शन करने पहुंच गए. काफी देर तक अभ्यर्थी वहीं डटे रहे और नारेबाजी की. पुलिस ने अभ्यर्थियों से समझाइश की कोशिश की, लेकिन वह प्रदर्शन पर अड़े रहे. जिसके बाद पुलिस ने अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज कर दिया. एकाएकी पुलिस के लाठीचार्ज से मौके पर अफरा तफरी मच गई, जिसमें कई लोग घायल भी हुए हैं. 

जानकारी के अनुसार, बिहार एसटीईटी 2019 के सर्टिफिकेट को लेकर अभ्यर्थी आक्रोशित हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना कि शिक्षा मंत्री ने आश्वासन दिया था कि एसटीईटी प्रमाणपत्र में मैरिट और अनमैरिट का उल्लेख नहीं होगा, लेकिन अब जो प्रमाणपत्र जारी किया गया है, उसमें मेरिट और नॉन मेरिट उल्लेख किया जा रहा है. बता दें कि बिहार में जल्द ही सातवें फेज के तहत शिक्षकों की बहाली होगी, जिसमें एसटीईटी पास अभ्यर्थियों को शामिल किया जाएगा.

बिहार: शराबबंदी के बीच नशे में नग्न होकर जदयू नेता ने किया तमाशा, गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार, एसटीईटी प्रमाणपत्र में मेरिट और नॉन मेरिट उल्लेख को लेकर छात्र प्रदर्शन करने शिक्षा विभाग पहुंचे थे. इस दौरान भारी संख्या में पुलिस बल तैनात था. अभ्यर्थी अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन करने लगे. पुलिस ने उनसे समझाइश की, लेकिन उन्होंने नहीं सुनी. इसके बाद अभ्यर्थियों का प्रदर्शन उग्र हो गया. जिसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए अभ्यर्थियों को वहां से खदेड़ना शुरू किया. इस दौरान मौके पर अफरा तफरी मच गई. अभ्यर्थी एक दूसरे पर गिर पड़े. पुलिस ने अभ्यर्थियों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा. इस दौरान अभ्य​र्थियों समेत कई अन्य लोगों को चोटें आई हैं. आक्रोशित एसटीईटी अभ्यर्थियों ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर पर पैसे लेकर धांधली करने का गंभीर आरोप लगाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें