पटना यूनिवर्सिटी में पूर्व CM बीपी मंडल की प्रतिमा हटाये जाने पर प्रदर्शन करते छात्र संगठन

Nawab Ali, Last updated: Thu, 26th Aug 2021, 1:35 AM IST
  • मंगलवार को पटना विश्वविद्यालय के कैंपस में छात्र संगठनों ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री बीपी मंडल की प्रतिमा बिना इजाजत के लगा दी. छात्र नेता मनीष यादव व तमाम छात्रों ने मंगलवार देर रात पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा लगा दी जिसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने प्रतिमा को हटाकर ढांचा तोड़ दिया.
पटना विश्वविद्यालय में पूर्व मुख्यमंत्री बीपी मंडल की प्रतिमा हटाये जाने पर प्रदर्शन करते छात्र संगठन.

पटना. मंगलवार की देर रात पटना विश्वविद्यालय में छात्र संगठनों के नेताओं ने कैंपस में बिना इजाजत के पूर्व मुख्यमंत्री बीपी मंडल की प्रतिमा लगा दी. अगले दिन कैंपस में पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा देख यूनिवर्सिटी प्रशासन में हडकंप मच गया. यूनिवर्सिटी प्रशासन ने आनन-फानन में प्रतिमा को हटा दिया. जिसके बाद छात्र संगठन यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ आक्रोशित हो गए. पटना यूनिवर्सिटी के गेट पर के बाहर बैठकर छात्र नेता विरोध जताने लगे.

मंगलवार की रात को छात्र नेता मनीष यादव के नेतृत्व में पटना विश्वविद्यालय कैंपस में पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा लगा दी. यूनिवर्सिटी के छात्र बीपी मंडल की जयंती मानाने की तयारी में थे. लेकिन अगले ही दिन यूनिवर्सिटी प्रशासन ने प्रतिमा को हटाते हुए ढांचा गिरा दिया. जिस कारण छात्र संगठन भड़ाक गए और विरोध करने लगे. कई छात्र संगठन प्रतिमा हटाये जाने का विरोध करने लगे. और प्रतिमा लेकर यूनिवर्सिटी के गेट पर बैठ गए. मामला इतना बढ़ गया की यूनिवर्सिटी प्रशासन को पुलिस व प्रशासन को बुलाना पड़ा. मौके पर पहुंचे पुलिस बल और मजिस्ट्रेट ने विरोध कर रहे छात्र संगठनों को बमुश्किल समझाया.  

पटना: ऑटो में बच्चियों को छोड़कर मां लापता, न्यूज शेयर करिए, नाबालिग को परिवार तक पहुंचाइए

पटना विश्वविद्यालय के कुलसचिव कर्नल कामेश ने बताया कि बिना अनुमति के कैंपस में किसी का भी सम्मानित व्यक्ति का प्रतिमा लगाया जाना उचित नहीं है. इसके लिए प्रक्रिया के अनुसार ही काम करना होगा. बिना अनुमति प्रतिमा लगाया जाना गलत है. विश्वविद्यालय के सम्मानित सदस्यों और बिना सिंडिकेट और सीनेट से अनुमति के कुछ भी सम्भव नहीं है. छात्र संगठनों का प्रदर्शन शाम चार बजे तक चलता रहा. इस कारण प्रशासन ने यूनिवर्सिटी के सभी दरवाजे बंद कर दिए जिससे अन्य छात्रों को कई तरह से परेशानियों का सामना करना पड़ा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें