बिहार के शिक्षकों को मिला ‘निष्ठा' ट्रेनिंग का एक और अवसर, 31 जनवरी तक मौका

Smart News Team, Last updated: Mon, 18th Jan 2021, 7:19 AM IST
  • केंद्र सरकार ने बिहार समेत देशभर के शिक्षकों के लिए निष्ठा ट्रेनिंग का एक और अवसर दिया है. जो शिक्षक अभी तक निष्ठा ट्रेनिंग नहीं कर पाए हैं, वे 16 से 31 जनवरी तक शुरू होने वाली निष्ठा ट्रेनिंग में शामिल हो सकते हैं.
निष्ठा ट्रेनिंग में 31 जनवरी तक शिक्षक शामिल हो सकते हैं.

पटना. बिहार के जो शिक्षक अभी तक निष्ठा ट्रेनिंग नहीं कर पाए हैं, उन्हें केंद्र सरकार ने एक और मौका दिया है. ऐसे शिक्षक 16 से 31 जनवरी तक शुरू होने वाली निष्ठा ट्रेनिंग में शामिल हो सकते हैं. निष्ठा ट्रेनिंग में 31 जनवरी तक शिक्षक शामिल हो सकते हैं. यह ट्रेनिंग उन शिक्षकों के लिए है, जिन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीटीई) द्वारा विकसित 18 मॉड्यूल का प्रशिक्षण नहीं लिया है. 

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने इस संबंध में सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया है. सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों ने ऐसे शिक्षकों को निष्ठा ट्रेनिंग में शामिल होने का निर्देश दिया है.

पटना के 17 केंद्रों पर वैक्सीनेशन शुरू, डाक परिमंडल ने किया विशेष आवरण जारी

बता दें कि केंद्र सरकार ने साल 2019 में बिहार समेत देशभर के 42 लाख शिक्षकों की दक्षता बढ़ाने के लिए निष्ठा ट्रेनिंग की शुरुआत की थी. नेशनल इनिशिएटिव फॉर स्कूल हेड्स एंड टीचर्स होलिस्टिक एडवांसमेंट अर्थात निष्ठा ट्रेनिंग के तहत शिक्षकों के लिए 18 अलग-अलग मॉड्यूल विकसित किया गया था. पहले साल में बिहार के 1.48 लाख शिक्षकों को ट्रेनिंग दी गई थी. प्रारंभिक स्कूल के 62642 शिक्षकों को ट्रेनिंग दी गई. जबकि, 1, 68218 शिक्षकों को ट्रेनिंग दी गई.

बिहार को मिलेगी जाम से राहत, 56 सड़कें होंगी चौड़ी, 120 से हटेगा अतिक्रमण

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान अक्टूबर महीने में बिहार के ढाई लाख शिक्षकों को निष्ठा ट्रेंनिग देने की शुरुआत हुई थी. कोरोना संक्रमण के कारण इस ट्रेनिंग को 16 अक्टूबर 2020 से ऑनलाइन मोड में शुरू किया गया था. इस ट्रेनिंग के तहत शिक्षकों में लीडरशीप विकसित करना और उन्हें डिजिटल तकनीक का प्रयोग सिखाकर शिक्षण व्यवस्था को मजबूत करना. बीईपी के राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी रविशंकर सिंह ने बताया कि सभी शिक्षकों को निष्ठा ट्रेनिंग लेना जरूरी है. ट्रेनिंग पूरी करने के बाद शिक्षकों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें