पटना समेत बिहार के कई शहरों में ऑटो की संख्या होगी निश्चित, बदलेंगे रूट, होगा सर्वे

Somya Sri, Last updated: Wed, 5th Jan 2022, 1:53 PM IST
  • पटना समेत बिहार के कई शहरों में ऑटो की संख्या निश्चित की जाएगी. निश्चित संख्या पूरे होने के बाद ऑटो को परमिट नहीं मिलेगा. वहीं जाम से निजात दिलाने के लिए ऑटो के रूट भी बदले जाएंगे. जाम से निजात दिलाने के लिए बिहार परिवहन विभाग ने ये फैसला लिया है.
पटना समेत बिहार के कई शहरों में ऑटो की संख्या होगी निश्चित, बदलेंगे रूट, होगा सर्वे (फाइल फोटो)

पटना: बिहार परिवहन विभाग ने प्रदेशवासियों को जाम से निजात दिलाने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. अब पटना समेत बिहार के कई शहरों में ऑटो की संख्या निश्चित की जाएगी. निश्चित संख्या पूरे होने के बाद ऑटो को परमिट नहीं मिलेगा. यात्रियों की संख्या को देखते हुए ऑटो की संख्या निश्चित की जाएगी. वहीं जाम से निजात दिलाने के लिए ऑटो के रूट भी बदले जाएंगे. बिहार परिवहन विभाग इसके लिए सर्वे कराएगा. जिसके तहत विभाग ने सभी जिला परिवहन पदाधिकारी से रिपोर्ट जनवरी के अंत मांगी है.

जानकारी के मुताबिक परिवहन विभाग उन शहरों में ऑटो की संख्या अधिक रखेगा जहां ऑटो व बस से सफर करने वाले यात्रियों की संख्या अधिक है. यानी पटना समेत बिहार के कई शहरों में यात्रियों को ध्यान में रखकर ऑटो की संख्या निश्चित ही जाएगी. वहीं इस वक्त बिहार में 30 से 35 हजार ऑटो को परमिट मिला हुआ है. जिनमें बेली रोड, गांधी मैदान, पटना जंक्शन जाने के लिए ऑटो की संख्या सबसे अधिक है. परिवहन विभाग के मुताबिक सर्वे हो जाने के बाद सभी शहरों और इलाकों में ऑटो की संख्या निश्चित कर दी जाएगी.

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पटना HC का आदेश, हाइब्रिड मोड में होगी मामलों की सुनवाई

बता दें कि परिवहन विभाग ऑटो को सुनियोजित करने के लिए यह बड़ा फैसला ले रहा है. साथ ही प्रदेशवासियों को जाम से निजात दिलाने के लिए भी यह फैसला लिया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक अब भी ऐसे कई रूट हैं. जहां ऑटो की संख्या कम है जबकि यात्रियों की संख्या अधिक है. ऐसे में यात्रियों को अधिक पैसा देकर सफर करना पड़ता है. साथ ही कई ऑटो अब भी पुरानी रूट पर चलते हैं जिसकी वजह से जाम की समस्या से प्रदेशवासियों को प्रतिदिन जूझना पड़ता है. परिवहन विभाग ऑटो की संख्या सुनिश्चित करेगा ही साथ ही ऑटो के परिचालन के लिए रूट भी बदलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें