NCS Portal Record: बिहार में बढ़े बेरोजगार, एनसीएस पोर्टल पर 2 लाख रजिस्ट्रेशन

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Feb 2022, 12:43 PM IST
  • इस साल जनवरी तक नेशनल करियर सर्विस पोर्टल पर 6 लाख से ज्यादा लोग अभी तक अपना निबंधन करवा चुके हैं, ये आकड़ा पिछले पांच साल में सबसे ज्यादा है, एनसीएस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने वालों में किन्नर भी शामिल हैं. 2015 में शुरु हुए इस पोर्टल पर अब तक 13 लाख से ज्यादा निबंधन हो चुकें हैं.
एनसीएस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने वालों में किन्नर भी शामिल हैं.

पटना. कोरोना वायरस और देश में लगे लॉकडाउन की वजह से करोड़ो लोगों को अपने काम से हाथ धोना पड़ा था, जिसकी वजह से पूरे देश में बेरोजगारी का स्तर काफी ज्यादा बड़ गया है. देश में बढ़ते बेरोजगारी का सबसे बड़ा उदाहरण बिहार से सामने आया है, जहां पर रोजगार मांगने वालों की संख्या में वृद्धि हुई है. राज्य में पिछले पांच सालों में सबसे ज्यादा लोगों ने इस साल जनवरी तक बिहार सरकार के निबंधन पोर्टल पर रोजगार के लिए निबंधन कराया है. पिछले साल की तुलना में इस बार तीन गुना अधिक लोगों ने पोर्टल पर निबंधन कराया है.

निबंधन करवाने वालों में ऐसे लोग भी शाामिल हैं जो स्व-रोजगार हैं, आकड़ो के मुताबिक पोर्टल पर अभी तक 13 लाख से ज्यादा निबंधन हो चुकें हैं. इस सूची में एक अच्छी बात ये रही कि निबंधन करने वालों में एक भी छात्र का नाम नही है, जो पढ़ाई के साथ-साथ रोजगार मांग रहा हो. जो की एक अच्छी बात है. 2015-16 से शुरु हुई नेशनल करियर सर्विस पोर्टल की शुरुआत की गई थी. इस पोर्टल की मदद से जब कभी भी जॉब फेयर या फिर नियोजन सह मार्गदर्शन मेला लगता है तब इन्हीं निबंधित लोगों को आमंत्रित किया जाता है. रोजगार मेले में उन्हीं लोगों को भाग लेने की अनुमति मिलती है जिन्होनें पोर्टल पर निबंधन करवाया हो.

चौकिये मत! ये मकान नहीं, थाना है..., जानें किन हालातों में काम रही बिहार पुलिस

आपको जानकर हैरानी होगी कि एनसीएस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने वालों में किन्नर भी शामिल हैं, आकड़ो के मुताबिक अब तक 222 किन्नरों ने रोजगार के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है. एनसीएस पोर्टल पर सबसे ज्यादा रजिस्ट्रेशन अक्टूबर में हुए हैं, जहां कुल 63 हजार 524 लोगों ने पोर्टल पर रोजगार के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया है. 2016-17 ही ऐसा साल रहा जिसमें 6 लाख से ज्यादा लोगों ने पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाया था, इसके बाद इसमें लगातार कमी होने लगी. फिर 2021-22 में एक बार फिर निबंधन की संख्या में वृद्धि हुई है. जिसमें दो लाख 67 हजार से ज्यादा बेरोजगारों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें