रातोंरात करोड़पति बना गरीब लकड़हारा, 7 रिश्तेदारों को तोहफे में दी बाइक, अब होगी जांच

Swati Gautam, Last updated: Sun, 16th Jan 2022, 4:22 PM IST
  • बिहार के किशनगंज में एक लकड़हारा रातोंरात करोड़पति बन गया और अपने सात रिश्तेदारों को बाइक गिफ्ट में दी. जमीन और ट्रैक्टर भी खरीदा. गांव वाले भी लकड़हारे की किस्मत को बदलते देख हैरान रह गए. जब यह सूचना जिला प्रशासन को पड़ी तो उन्होंने जांच के आदेश दे दिए. इसके बाद से ही लकड़हारा और उसका बेटा अंडरग्राउंड हो गए हैं.
रातोंरात करोड़पति बना गरीब लकड़हारा (file photo)

पटना. बिहार के किशनगंज से एक हैरान वाली खबर सामने आई है जहां एक लकड़हारे की किस्मत चंद घंटों में पलट गई और रातोंरात गरीब लकड़हारा करोड़पति बन गया. अमीर बनते ही युवक ने अपने सात रिश्तेदारों को बाइक तोहफे में दी. इतना ही नहीं लकड़हारे ने गांव में कई बीघा जमीन, नया टैक्टर भी खरीदा और अपना घर नया बनाने के लिए भी निर्माण कार्य शुरू करा दिया. जब गांववालों ने देखा कि कल तक गरीबी में जी रहा लकड़हारा मानों हर तरफ पैसों की बरसात कर रहा था तो गांव में अफवाहों की हलचल तेज हो गई और यह बात जिला प्रशासन के द्वार तक जा पहुंची. जिला प्रशासन ने जांच के आदेश दे दिए जिसके बाद से लकड़हार व उसका पुत्र अंडरग्राउंड हो गए हैं.

जब लकड़हारे के पास अनगिनत पैसे होने की चर्चा पूरे गांव में होने लगी तो इसकी भनक जिला प्रशासन को भी पड़ गई. खबर मिलने के बाद जिला प्रशासन ने लकड़हारे की जांच के आदेश दिए हैं. लेकिन जैसे ही लकड़हारे और उसके बेटे को यह सूचना मिली कि जिला प्रशासन को उसके पास पैसे होने की भनक हो गई है तो दोनों अंडरग्राउंड हो गए हैं. एसडीएम शाहनवाज अहमद नियाजी ने कहा कि उनके पास अचानक से इतना धन कैसे आया इसकी जांच करवाई जाएगी.

बिहार में 55 लाख कीमत की 550 कार्टन विदेशी शराब पुलिस ने की जब्त, 11 कारोबारी अरेस्ट

यह मामला किशनगंज के टेउसा पंचायत का है. लकड़हारे को रातों-रात करोड़पति बनते देख गांव वाले चौक गए हैं. कोई ग्रामीण कह रहा है कि लक्कड़ हारा लतीफ और उसका बेटा उबेलुदल ने कोई लॉटरी का टिकट खरीदा और उसमें लकड़हारा करोड़ों रुपए जीत गया. तो वहीं, दूसरे ग्रामीण का कहना है कि करीब 2 हफ्ते पहले लकड़हारे और उसके बेटे को कहीं से गुप्त धन मिल गया है जिससे वह अमीर हो गए हैं. सच्चाई क्या है यह तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें