केंद्रीय मंत्री गिरिराज बोले- जनगणना समाज हित के लिए हो ,राजनीतिक हित में नहीं

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 26th Aug 2021, 10:09 AM IST
  • जातीय जनगणना की मांग को लेकर बिहार की राजनीति में एक अलग माहौल बना हुआ है. इसी बीच भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनगणना को लेकर एक बयान दिया है. गिरिराज सिंह ने कहा है कि जो भी जनगणना हो वह समाज के हित के लिए हो ना कि राजनीतिक हित के लिए.
भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनगणना पर दिया बयान, (फाइल फोटो)

पटना. जातीय जनगणना की मांग को लेकर हाल ही में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले थे. इसी बीच अब जनगणना को लेकर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक बयान दिया है. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनगणना को लेकर एक ट्ववीट किया है जिसमें उन्होंने लिखा है कि जो भी जनगणना हो वह समाज के हित के लिए हो ,राजनीतिक हित के लिए नहीं. गिरिराज सिंह ने बिना नाम लिए सीएम नीतीश पर तंज कसा है. 

वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री पद्मश्री सीपी ठाकुर ने कहा कि जनगणना का आधार जाति नहीं बल्कि आर्थिक होना चाहिए. इनके इस ट्वीट को लेकर बिहार में राजनीति फिर से गर्म हो गई है क्योंकि बिहार में बीजेपी को छोड़कर सभी दल चाह रहे हैं कि इस बार की जनगणना जाति के आधार पर हो. वहीं बीजेपी नेता सीपी ठाकुर ने आगे कहा- देश में जाति नहीं बल्कि गरीबी के आधार पर जनगणना हो क्योंकि गरीबी की कोई जाति नहीं होती, गरीब गरीब होता है.

जातीय जनगणना को लेकर CM नीतीश ने की पीएम मोदी से मुलाकात, कहा- अब उन्हें लेना है फैसला

दिल्ली में पीएम मोदी से जातीय जनगणना की मांग को लेकर सीएम नीतीश के साथ 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, जदयू के विजय चौधरी, कांग्रेस के अजीत शर्मा, राजद नेता तेजस्वी यादव, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) के महबूब आलम, सीपीआई के सूर्यकांत पासवान, माकपा के अजय कुमार, एआईएमआईएम के अख्तरुल इमान, वीआईपी के मुकेश सहनी पहुंचे थे. इस मुलाकात के बाद सीएम नीतीश ने कहा था- प्रधानमंत्री ने हमारी पूरी बात सुनी सबने जातिगत जनगणना के पक्ष में एक-एक बात कही है. उन्होंने हमारी बात को नकारा नहीं है, हमने कहा है कि इस पर विचार करके आप निर्णय लें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें