भाजपा ने देवेंद्र फडणवीस को दी नई जिम्मेदारी, बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 5:10 PM IST
भाजपा ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बिहार चुनाव का प्रभारी बनाया है. बुधवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के द्वारा आधिकारिक रूप से उनकी नियुक्ति कर दी गई है.
भाजपा ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बिहार चुनाव का प्रभारी बनाया है.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे देवेंद्र फडणवीस को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आगामी बिहार चुनाव में चुनाव प्रभारी नियुक्त किया है. आपको बता दें कि देवेंद्र फडणवीस भारतीय जनता पार्टी का एक युवा चेहरा हैं. इसके अलावा सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में भी बिहार पुलिस के क्वारंटाइन किए जाने पर उन्होंने कई सवाल उठाए थे. ऐसे में भाजपा ने फडणवीस को मैदान में लाकर एक महत्वपूर्ण दांव खेला है.

 जानकारी के अनुसार बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह की ओर से जारी पत्र में जेपी नड्डा द्वारा देवेंद्र फडणवीस को चुनाव प्रभारी नियुक्त किया गया है.

सुशांत केस की धीमी जांच से परेशान पिता ने CM नीतीश कुमार से की मुलाकात

गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा चुनाव प्रभारी बनाने के लिए फडणवीस के नाम की पहले से ही चर्चा चल रही थी. बीते 13 अगस्त को उन्हें बिहार चुनाव में लाने का फैसला भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में लिया गया था. हालांकि बुधवार को इस संबंध में अधिकारिक घोषणा हुई है.

चुनाव के लिए देवेंद्र फडणवीस कई बार बिहार दौरे पर जा चुके हैं. बीते सोमवार को वे बीजेपी युवा मोर्चा के नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या के साथ युवा संवाद कार्यक्रम में भी शामिल हुए थे.

बिहार चुनाव: अपनी मांग के साथ निर्वाचन आयोग से मिले पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल

यह पहला मौका है जब पार्टी ने देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र की राजनीति से बाहर जिम्मेदारी दी है. दरअसल, सुशांत सिंह की मौत के मामले में देवेंद्र फडणवीस ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस मामले की सीबीआई जांच कराने की सिफारिश की थी. इसके अलावा जांच के लिए मुंबई गई बिहार पुलिस को क्वॉरेंटाइन करने पर भी देवेंद्र फडणवीस ने कई सवाल उठाए थे. सूत्रों के अनुसार भाजपा का मानना है कि सुशांत की मौत की जांच में आने वाले समय में कई उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं. पार्टी इस मामले को लेकर बिहार चुनाव में इसे प्रमुख मुद्दा बना सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें