बिहार उपचुनाव में लालू यादव से प्रचार कराने को कोर्ट से इजाजत ले RJD: निखिल आनंद

Smart News Team, Last updated: Sun, 10th Oct 2021, 11:25 PM IST
  • बिहार में दो विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए लालू प्रसाद यादव के प्रचार प्लान को लेकर भाजपा ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री सह बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉ निखिल आनंद ने राजद पर निशाना साधा है.
फोटो- निखिल आनंद ( बिहार बीजेपी प्रवक्ता )

पटना. बिहार उपचुनाव में कुशेश्वर स्थान और तारापुर विधानसभा सीट से प्रत्याशी उतारने के बाद राजद प्रचार पर फोकस कर रही है. हाल ही में जेल से छूटे आरजेडी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव पार्टी के लिए प्रचार करेंगे. ऐसे में बिहार बीजेपी ने राष्ट्रीय जनता दल पर निशाना साधा है. बीजेपी ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री सह बिहार, प्रवक्ता डॉ निखिल आनंद ने लालू के चुनाव प्रचार को लेकर कहा कि उनका दो सीटों पर प्रचार करना कानूनी प्रक्रिया है. राजद को पहले कोर्ट से अनुमति लेनी चाहिए.

निखिल आनंद ने कहा कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को बेल उनके स्वास्थ्य की वजह से मिला है. अभी वो दिल्ली में आराम कर रहे हैं लेकिन आरजेडी ने जिस तरह से एलान किया कि वो बिहार में दो सीटों पर उपचुनाव में प्रचार करेंगे तो ये पूरी कानूनी प्रक्रिया है. लालू यादव चूंकि सजायाफ्ता रहे है और बेल पर हैं तो ऐसे में राजद को चाहिए कि लालू जी से चुनाव प्रचार कराने के लिए कोर्ट से आधिकारिक इजाजत ले लें.

खत्म नहीं हो रही लालू के बेटों की रार, कभी तेजप्रताप के करीबी रहे सृजन स्वराज हुए तेजस्वी के साथ

बीजेपी प्रवक्ता ने आगे कहा कि अगर लालू यादव चुनाव प्रचार में जाते हैं तो इससे नाहक विवाद पैदा होगा और सिर्फ राजद की फजीहत ही नहीं होगी बल्कि अस्वस्थ लालू जी की परेशानी भी बढ़ेगी. आरजेडी को इन सब बातों को लेकर संवेदनशील होना चाहिए, नहीं तो यह एक तरह से कोर्ट का और कानूनी प्रक्रिया का माखौल उड़ाने जैसा है. बिना कोर्ट के परमिशन के अगर लालू यादव जी चुनाव प्रचार में सक्रिय रूप से भागीदारी करते हैं तो निश्चित रूप से यह कानून का उल्लंघन होगा.

वहीं भाजपा प्रवक्ता ने तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव पर हमला करते हुए कहा कि आदरणीय लालू चाचा- राबड़ी चाची के शासनकाल में राजद नेताओं- समर्थकों एवं आम लोगों का शोषण और दोहन करने के लिए साधु गुट- सुभाष गुट बना हुआ था. ठीक उसी तर्ज पर बड़े भाई तेजप्रताप यादव और छोटे भाई तेजस्वी यादव भी राजद के नेताओं- समर्थकों के बीच ग्रुप- ग्रुप का खेल रचके पारिवारिक हित साधने में लगे हैं, स्क्रिप्ट पुराना है. बिहार की जनता और राजनीतिक तौर पर ठगे जा रहे राजद नेताओं को बेवकूफ बनाने का यह आईडिया पुराना है. हकीकत में लालूजी के परिवार में अंदरूनी तौर पर सभी के हित एक है और आपस में मिले हुए है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें