बिहार में बीजेपी के तारकिशोर प्रसाद होंगे नीतीश कुमार के डिप्टी सीएम!

Smart News Team, Last updated: Sun, 15th Nov 2020, 8:02 PM IST
  • एनडीए की बैठक के बाद नीतीश कुमार को विधायक दल को नेता चुना गया. वहीं सूत्रों की मानें तो बीजेपी के तारकेश्वर प्रसाद बिहार के डिप्टी सीएम होंगे.
बीजेपी के तारकिशोर प्रसाद बिहार के अगले डिप्टी सीएम होंगे.

पटना. पटना में रविवार को एनडीए की बैठक में नीतीश कुमार को विधायक दल का नेता चुन लिया गया है. सूत्रों के अनुसार, बीजेपी विधायक तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी दोनों ही नीतीश कुमार के डिप्टी सीएम होंगे. माना जा रहा है कि सुशील कुमार मोदी को बिहार का उप मुख्यमंत्री नहीं बनाया जाएगा. उनको केन्द्र में कैबिनेट में जगह मिलेगी.

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि आदरणीय सुशील जी आप नेता हैं. उप मुख्यमंत्री का पद आपके पास था, आगे भी आप भाजपा के नेता रहेंगे. पद से कोई छोटा बड़ा नहीं होता. ये ट्वीट उन्होंने सुशील मोदी के ट्वीट के जवाब में किया. जिसमें सुशील मोदी ने कहा कि भाजपा और संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया की शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा. आगे भी जो जिम्मेवारी मिलेगी उसका निर्वहन करूँगा. कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता.

NDA की बैठक के बाद सुशील मोदी का ट्वीट- BJP कार्यकर्ता का पद तो कोई नहीं छीन सकता

गिरिराज सिंह ने एक दूसरे ट्वीट में कहा कि तारकिशोर जी आप आज विधानमंडल दल के नेता सर्वसम्मति से चुने गए हैं. आप सर्वसमाज को लेकर चलेंगे ऐसा मेरा विश्वास है, महादेव आपको सफलता दे. रविवार को पटना में सीएम आवास पर हुई एनडीए की संयुक्त बैठक में नीतीश कुमार को विधायक दल का नेता चुना गया और तारकेश्वर प्रसाद को उपनेता चुना गया है. इससे उनके डिप्टी सीएम बनने की संभावना मजबूत हो गई है. सूत्रों के अनुसार, डिप्टी सीएम के लिए सुशील मोदी ने एनडीए की बैठक में तारकेश्वर प्रसाद के नाम का प्रस्ताव रखा.

नीतीश के डिप्टी सीएम की रेस में अब NDA के उपनेता तारकेश्वर सिंह भी शामिल

बीजेपी के विधायक दल का नेता तारकेश्वर प्रसाद और रेणु देवी को उपनेता के लिए चुना गया. एनडीए की इस अहम बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे. उन्होंने ही एनडीए के विधायक दल के नेता के रूप में नीतीश कुमार के नाम की घोषणा की. जिसके बाद नीतीश कुमार सरकार बनाने की पेशकश के लिए राजभवन गए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें