पटना: नए कृषि कानून के समर्थन में बीजेपी किसानों को करेगी एकजुट, पटना से शुरुआत

Smart News Team, Last updated: 13/12/2020 01:08 PM IST
  • नए कृषि कानूनों के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी किसानों को एकजुट करने में जुटी है। 243 विधानसभा क्षेत्रों में किसान चौपाल आयोजित किए जाएगें। सभी 38 जिलों में पार्टी के केंद्रीय व राज्य सरकार में शामिल मंत्रियों के साथ वरिष्ठ नेता किसान रैलियों और सभाओं का आयोजन कर रहे हैं।
नए कृषि कानून के समर्थन में बीजेपी किसानों को करेगी एकजुट

पटना: नए कृषि कानूनों के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी किसानों को एकजुट करने के अभियान में जुट गई है। बता दें राज्य के सभी 38 जिलों में पार्टी के केंद्रीय व राज्य सरकार में  शामिल मंत्रियों के साथ वरिष्ठ नेता किसान रैलियों और सभाओं का आयोजन कर रहे हैं। वहीं 243 विधानसभा क्षेत्रों में किसान चौपाल भी आयोजित किए जाएंगे।  

बता दें पटना के बख्तियारपुर में रविवार को बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद किसान सभा के साथ इसकी शुरूआत करेंगे। वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि अटल जयंती यानी 25 दिसंबर तक 13 दिनों में बिहार के अलग-अलग हिस्सों में 93 से अधिक बड़ी सभाएं होंगी।

कानून व्यवस्था को लेकर CM नीतीश कुमार ने की बैठक, अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल ने कहा कि बिहार में कांट्रेक्ट फॉर्मिंग हो यह पंजाब सरकार और बिचौलिये नहीं चाहते हैं। कांट्रेक्ट फॉर्मिंग में सिर्फ फसल का कांट्रेक्ट होता है, जमीन का नहीं। इस नए कृषि कानून के लागू होने के बाद बिहार में भी कांट्रेक्ट फॉर्मिंग के दरवाजे खुलेंगे। इससे किसानों को उपज बेचने के लिए कई अवसर और विकल्प खुलेंगे। सभाओं और चौपाल के जरिए भाजपा के वरिष्ठ नेता किसानों की यही गलतफहमी दूर करेंगे।

गौरतलब है कि किसानों की गलतफहमी दूर करने के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह, अश्विनी कुमार चौबे, आरके सिंह, नित्यानंद राय, रविशंकर प्रसाद, डॉ. संजय जायसवाल, सुशील कुमार मोदी, प्रेम कुमार, नंदकिशोर यादव, तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, मंगल पांडेय, अमरेंद्र प्रताप सिंह, जीवेश मिश्रा, रामसूरत राय, रामप्रीत पासवान सभी सभाओं में हिस्सा लेंगे।

नीतीश के मंत्रिमंडल का अभी तक नहीं हुआ विस्तार, क्या BJP-JDU में है आंतरिक कलह!

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें