BPSSC: इंतजार खत्म, बिहार पुलिस दारोगा-सार्जेंट पीटी रिजल्ट इस महीने होगा जारी

Somya Sri, Last updated: Thu, 13th Jan 2022, 11:45 AM IST
  • 2213 पदों के लिए 26 दिसंबर को हुई बिहार पुलिस दरोगा और सार्जेंट के पीटी का रिजल्ट इस महीने जारी हो सकता है. विलंब होने की स्थिति में ज्यादा से ज्यादा फरवरी के शुरुआत में रिजल्ट जारी हो सकता है. वहीं मेंस परीक्षा कोरोना वायरस संक्रमण का दौर कम होने पर आयोजित होगा.
बिहार पुलिस (फाइल फोटो)

पटना: 26 दिसंबर को आयोजित हुई 2213 पदों के लिए बिहार पुलिस दरोगा और सार्जेंट के पीटी का रिजल्ट इस महीने आ सकता है. बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग इस महीने या फरवरी के शुरुआत में रिजल्ट जारी कर सकता है. वहीं मुख्य परिक्षा कोरोना वायरस के संक्रमण थमने के बाद लिया जा सकता है. हालांकि अगर कोरोना वायरस इसी तरह से अपना प्रकोप फैलाता रहा तो उम्मीद जताई जा रही है कि मेंस परीक्षा में काफी विलंब हो सकता है.

जानकारी के मुताबिक मेंस परीक्षा में कुल पदों के मुकाबले कम से कम 20 गुना अभ्यर्थियों का चयन होगा. उम्मीद है कि अभ्यर्थियों की संख्या 44 हजार के पार पहुंचेगी. कहा जा रहा है कि मेंस परीक्षा केवल पटना के ही विभिन्न सेंटर्स पर आयोजित हो सकता है. मालूम हो कि बिहार पुलिस दरोगा बहाली के लिए 2313 पदों पर पीटी आयोजित हुई थी. जिसमें 198 पद दरोगा के और 215 से सार्जेंट के थे. इस परीक्षा के लिए पटना में 57 सेंटर बनाए गए थे. 1998 पदों पर होने वाली दरोगा भर्ती परीक्षा में 100 से अधिक मजिस्ट्रेट तैनात किए गए थे. साथ ही 100 से भी अधिक पुलिस अधिकारियों की तैनाती की गयी थी. परीक्षा केन्द्रों पर भारी संख्या में पुलिस बल भी मौजूद थे. पटना के 57 परीक्षा केंद्रों पर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को नाकाम करने के लिए जैमर भी लगा दिए गए थे.

बिहार में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी, मांझी ने की विधान परिषद चुनाव में दो सीट की मांग

बता दें कि पटना के सभी सेंटर को मिलाकर कुल 33952 अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल हुए थे. सबसे बड़ा सेंटर एन कॉलेज था जिसमें 2304 कैंडिडेट परीक्षा में शामिल हुए थे. इसके बाद दूसरा बड़ा सेंटर पटना का कॉलेज ऑफ कॉमर्स जिसमें 1464 कैंडीडेट्स परीक्षा में शामिल हुए थे. वहीं पटना के 57 सेंटर प 64 स्टैटिक मजिस्ट्रेट और 64 पुलिस अधिकारी को लगाया गया था. इसके अलावा 20 जोनल मजिस्ट्रेट और 20 पुलिस पद पदाधिकारी को भी तैनात किया गया था. वहीं 12 जॉइंट स्क्वायड भी लगाए गए थे. 10 मजिस्ट्रेट और 10 पुलिस पदाधिकारी को रिजर्व के रूप में लगाया गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें