जातिगत जनगणना को लेकर BJP व नीतीश पर हमलावर तेजस्वी, बोले- दोनों बना रहे बेवकूफ

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 10th Jan 2022, 11:39 AM IST
बिहार में जातिगत जनगणना का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव लगातार इस मुद्दे को लेकर भाजपा और सीएम नीतीश कुमार पर हमलावर दिख रहे हैं. तेजस्वी ने जातिगत जनगणना को लेकर दोनों पर बिहार को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया. वहीं, कांग्रेस भी अब जातिगत जनगणना के मुद्दे पर समर्थन दे रही है.
जातिगत जनगणना को लेकर BJP व नीतीश पर हमलावर तेजस्वी, बोले- दोनों बना रहे बेवकूफ (फाइल फोटो) 

पटना (वार्ता). बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर राष्ट्रीय जनता दल से लेकर कांग्रेस सभी एक सुर में जनगणना कराने की मांग कर रही है. इस मुद्दे पर जहां कांग्रेस मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बिना भाजपा की परवाह किए राज्य में जातीय जनगणना करवाने की मांग कर रही है. वहीं, आरजेडी नेता व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और भाजपा पर बिहार की जनता को इस मुद्दे पर बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया. तेजस्वी ने कहा कि अब यह स्पष्ट हो गया है कि जातिगत जनगणना कराने में सीएम नीतीश कुमार की कोई दिलचस्पी नहीं है और सर्वदलीय बैठक नहीं बलाया जाना उनकी अनिच्छा का प्रमाण है.

तेजस्वी यादव ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बिहार में जातिगत जनगणना कराने में कोई दिलचस्पी नहीं है. उन्होंने कहा कि बिहार विधानसभा में दो बार जाति जनगणना का प्रस्ताव पारित हुआ इसलिए इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाने की जरूरत ही नहीं है.

जातिगत जनगणना पर बोले तेजस्वी, कहा- JDU के नेता कर रहे नौंटकी, मैं CM होता तो करता घोषणा

प्रतिपक्ष के नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सभी दल के प्रतिनिधिमंडल ने पिछले साल 23 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और उनसे जाति आधारित जनगणना नहीं कराने के केंद्र के फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया था. उन्होंने कहा कि सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के अनुरोध के बावजूद इस मुद्दे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार का रुख नहीं बदला.

तेजस्वी यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में अपने संसाधान से जाति आधारित जनगणना कराने के मुद्दे पर चर्चा के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाने की घोषणा एक महीने से पहले की थी लेकिन अभी तक ऐसी कोई बैठक नहीं बुलायी गयी है. उन्होंने कहा कि अब यह स्पष्ट हो गया है कि जातिगत जनगणना कराने में सीएम नीतीश कुमार की कोई दिलचस्पी नहीं है और सर्वदलीय बैठक नहीं बलाया जाना उनकी अनिच्छा का प्रमाण है.

नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि जातिगत जनगणना और बिहार को विशेष दर्जा देने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री श्री कुमार का खोखलापन उजागर हो गया है. उन्होंने कहा कि यह राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव थे जिन्होंने सबसे पहले जाति जनगणना की मांग उठाई थी और जातिगत जनगणना के लिए सरकार पर दबाव बनाने के उद्देश्य से सड़कों पर संघर्ष किया था.

कांग्रेस की बिहार इकाई ने रविवार को कहा कि वह जातीय जनगणना के मुद्दे पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पूरा समर्थन करती है. कांग्रेस ने कुमार से आग्रह किया कि वह अपने सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी की मंजूरी की परवाह किये बिना राज्य में जातीय जनगणना करवाएं.

इस संबंध में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा का बयान लालू प्रसाद यादव के राष्ट्रीय जनता दल के रुख के करीब दिखाई दिया जो कि बिहार में प्रमुख विपक्षी दल है. शर्मा ने यहां संवाददाताओं से कहा, मुख्यमंत्री सर्वदलीय बैठक बुलाना चाहते हैं,भाजपा सहमत होते नही दिख रही. नीतीश कुमार को आगे बढ़ना चाहिए, इस मुद्दे पर कांग्रेस पूरी तरह उनके साथ है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें