CBSE 10th Result: दस हजार से ज्यादा फेल छात्र छठे सब्जेक्ट की मदद से होंगे पास

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Jul 2021, 8:45 PM IST
  • 432 स्कूलों ने दसवीं बोर्ड का रिजल्ट तैयार करने में छठे विषय को रिप्लेस किया है, क्योंकि मुख्य तीन विषय में छात्र फेल हो गये हैं. ऐसे में बोर्ड के नियमानुसार छात्र के छठे विषय से मुख्य एक विषय को रिप्लेस किया गया है. इससे छात्र फेल नहीं हुए और उन्हें उत्तीर्ण किया गया.
432 CBSE स्कूलों ने दसवीं बोर्ड का रिजल्ट तैयार करने में छठे विषय को रिप्लेस किया है.

पटना- सीबीएसई के दसवीं रिजल्ट का अंक अपलोड करने की प्रक्रिया खत्म हो चुकी है. इस बार छठे विषय को रिप्लेस कर कई स्कूलों ने रिजल्ट तैयार किया है. पटना क्षेत्रीय कार्यालय सूत्रों की मानें तो 432 स्कूलों ने दसवीं बोर्ड का रिजल्ट तैयार करने में छठे विषय को रिप्लेस किया है, क्योंकि मुख्य तीन विषय में छात्र फेल हो गये हैं. ऐसे में बोर्ड के नियमानुसार छात्र के छठे विषय से मुख्य एक विषय को रिप्लेस किया गया है. इससे छात्र फेल नहीं हुए और उन्हें उत्तीर्ण किया गया.

बोर्ड की मानें तो जिन छात्रों ने छठा विषय लिया था, उन्हें रिजल्ट में फायदा हुआ है. बता दें कि पांच विषयों पर बोर्ड रिजल्ट तैयार करता है. ऐसे में पांच विषय में किसी एक में फेल होने पर छात्रों को कंपार्टमेंटल देना होता था. लेकिन बोर्ड की इस सुविधा से दस हजार से अधिक छात्र प्रदेश भर में पास हुए. हिन्दी और अंग्रेजी में कई स्कूलों में छात्र फेल हुए हैं. ऐसे में उन छात्रों को संबंधित भाषा के अंक को तीसरी भाषा से रिप्लेस किया गया है. इसका फायदा उन छात्रों को हुआ है, जिन्होंने छठे विषय के तौर पर कोई तीसरी भाषा ली थी. ऐसे स्कूल की संख्या प्रदेश भर में 154 है.

वैक्सीन ली पर इटली, फ्रांस, जर्मनी समेत 27 देश नहीं जा सकेंगे तेजस्वी, तेजप्रताप

बता दें कि बोर्ड ने सत्र 2020-21 में दसवीं बोर्ड में तीन अनिवार्य विषय (गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान) में से किसी एक में असफल रहते हैं तो छात्र अपने छठे विषय से उसे रिप्लेस कर पायेंगे. बशर्ते कि छठा विषय कोई स्किल विषय हो. ऐसे में जिन छात्रों ने स्किल विषय लिया था, उन्हें इसका फायदा होगा. इसके अलावा अगर छात्र दो अनिवार्य भाषा (हिन्दी और अंग्रेजी) में फेल होते हैं और छात्र ने छठे विषय के तौर पर तीसरी भाषा ली है तो उसे रिप्लेस कर सकेंगे. इसका फायदा भी इस बार रिजल्ट में छात्रों को मिलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें