LJP की PM मोदी से अपील, रामविलास पासवान की सीट से पत्नी रीना को भेजें राज्यसभा

Smart News Team, Last updated: Tue, 24th Nov 2020, 7:24 PM IST
  • लोजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर उनकी पत्नी रीना पासवान को उम्मीदवार बनाने की अपील की. 14 दिसंबर को इस सीट के लिए वोटिंग होगी.
लोजपा की पीएम मोदी से अपील रामविलास पासवान की पत्नी रीना को राज्यसभा भेजा जाए.

पटना. पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में लोजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनकी पत्नी रीना पासवान को उम्मीदवार बनाने की अपील की है. लोजपा के मीडिया प्रभारी ने कहा कि रीना पासवान को राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाना स्वर्गीय रामविलास पासवान के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी. इस बारे में पीएम पोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया है.

आपको बता दें कि रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई सीट पर 14 दिसंबर को मतदान होगा. इस सीट पर उपचुनाव के लिए चुनाव आयोग 26 नवंबर को अधिसूचना जारी करेगी. जिसके बाद नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. उम्मीदवार 4 दिसंबर तक नोमिनेशन दाखिल करा सकते हैं और 7 नवंबर तक नामांकन वापस ले सकते हैं. जिसके बाद अगर चुनाव की जरूरत पड़ी तो 14 दिसंबर को वोटिंग होगी.

बिहार विधानसभा स्पीकर चुनाव: महागठबंधन से RJD के अवध बिहारी का नामांकन

जेडीयू अध्यक्ष और सीएम नीतीश कुमार पर विधानसभा चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार के आरोप से लेकर जेल भेजने की धमकी देने वाली एलजेपी के लिए अब रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान की मां रीना पासवान को भेजना बहुत टेढ़ा काम है. बीजेपी का मन भी हो तो नीतीश की मन की बात सुननी होगी.

NDA की तरफ से विजय सिन्हा होंगे बिहार विधानसभा स्पीकर के कैंडिडेट!

वैसे ही डिप्टी सीएम पद से विदा हुए सुशील कुमार मोदी के राज्यसभा जाने और केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के कैबिनेट में मंत्री बनने की अटकलें भी चल रही हैं. सीट एक है. उस सीट से सुशील मोदी जाएं या रीना पासवान या कोई नया चेहरा ये तो बीजेपी नेतृत्व को ही पता होगा. बीजेपी जिस तरह से नीतीश की नई कैबिनेट से लेकर विधानसभा के स्पीकर का कैंडिडेट चुनने में पुराने नेताओं को साइड करके चौंका रही है कोई नया खेल हो जाए तो आश्चर्य नहीं होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें