चिराग और नीतीश की तकरार बढ़ी, JDU बोली- गठबंधन BJP से है, LJP बोली- थैंक्यू

Smart News Team, Last updated: 08/09/2020 08:48 PM IST
बिहार चुनाव से पहले एनडीए में राजनीतिक उथल-पुथल जारी है. चिराग पासवान की लोजपा को लेकर जेडीयू महासचिव केसी त्यागी के बयान के बाद लोजपा ने पलटवार करते हुए त्यागी के बयान का स्वागत किया है.
चिराग पासवान और नीतीश कुमार की तकरार बढ़ी

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव से पहले एनडीए में चिराग पासवान की लोजपा और नीतीश कुमार की जेडीयू के बीच राजनीतिक उथल-पुथल जारी है. जेडीयू के राष्ट्रीय सचिव केसी त्यागी के बिहार में सिर्फ बीजेपी से गठबंधन को लेकर दिए बयान को लेकर लोजपा ने पलटवार किया है.

दरअसल जेडीयू के राष्ट्रीय सचिव केसी त्यागी ने कहा था कि जदयू ने बिहार में कभी लोजपा के साथ गठबंधन नहीं किया, उनका गठबंधन भाजपा से है. अब इसपर लोजपा ने बयान जारी कर जेडीयू के इस बयान का स्वागत किया है.

लोजपा ने कहा कि यह बयान देकर जेडीयू ने हम पर एहसान किया है. हमारी पार्टी उन्हीं लोगों से हाथ मिलाती है जो लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के देश में बिहार को प्रमुख राज्य बनाने के एजेंडा को सपोर्ट करता है.

पटना: LJP अध्यक्ष चिराग पासवान को हम प्रवक्ता दानिश रिजवान का पत्र, पूछे कई सवाल

वहीं जेडीयू नेता केसी त्यागी ने यह भी साफ किया था कि बिहार में जो भी दल एनडीए का साथी होगा उसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार करना होगा. केसी ने त्यागी ने आगे कहा कि गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा तक इस बात की घोषणा कर चुके हैं.

मालूम हो कि केसी त्यागी का बयान उस समय पर आया जब लोजपा बिहार में 143 सीटों पर जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार उतारने पर विचार कर रही है. इस संबंध में चिराग पासवान की अध्यक्षता में एक बैठक भी हुई थी जिसमें पार्टी नेताओं ने यह फैसला अध्यक्ष चिराग पर छोड़ दिया था.

ये भी पढ़ें- पटना में दिनदहाड़े सिविल कोर्ट के वकील की गोली मारकर हत्या

दूसरी ओर एनडीए में अब मांझी की हम भी शामिल हो गई है जो पहले से ही चिराग पासवान की पार्टी पर निशाना साधते आई है. ऐसे में कहा जा रहा है कि लोजपा और जेडीयू की दूसरी इस वजह से और बढ़ गई है क्योंकि मांझी को एनडीए में शामिल कराने के पीछे पूरी तरह नीतीश कुमार का हाथ है. 

सूत्रों की मानें तो नीतीश कुमार चुनाव में दलित वोट बैंक भी मजबूत करना चाहते हैं. इसी वजह से मांझी को जेडीयू अपने खाते से 10 सीट दे सकती है. हालांकि, अभी तक इस मामले में कुछ साफ नहीं हो पाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें