चिराग पासवान चुनाव आयोग पहुंचे, चाचा पशुपति ने अपने कैंप को बताया था असली लोजपा

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Jun 2021, 6:39 PM IST
  • चिराग पासवान चुनाव आयोग पहुंच गए हैं. चाचा पशुपति के लोजपा पर दावा करने के बाद अब चिराग पार्टी की पूरी जानकारी देने के लिए इलेक्शन कमिशन गए हैं. चुनाव आयोग ने चिराग को पांच बजे का समय दिया था.  
चिराग पासवान लोजपा के बारे में जानकारी देने के लिए चुनाव आयोग पहुंचे.

पटना. लोजपा में टूट के बाद दो कैंप बन गए हैं जिसमें चिराग पासवान और चाचा पशुपति पारस आमने-सामने हैं. लोजपा में चिराग को छोड़ अलग हुए बागी सांसदों ने एलजेपी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष भी पशुपति पारस को चुन लिया है. राजनीतिक घमासान बढ़ने के बाद मामला अब चुनाव आयोग पहुंच गया है. पशुपति पारस ने अपने कैंप को असली लोजपा बताया था. इसी के साथ आयोग से पार्टी का झंडा और चुनाव चिन्ह इस्तेमाल करने की इजाजत मांगी थी. चिराग पासवान ने भी चुनाव आयोग से मिलने का समय मांगा था. चिराग पासवान चुनाव आयोग को लोजपा के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए गए हैं.  

चिराग पासवान चुनाव आयोग से मिलकर लोक जनशक्ति पार्टी के संविधान के साथ-साथ पार्टी के फाउंडर मेंबर और पार्टी के तमाम नियम कानून जो रामविलास पासवान ने बनाए थे उऩ्हें सौंपेंगे. चिराग पासवान कैंप के लोजपा प्रवक्ता मोहम्मद अशरफ का कहना है कि पार्टी की तरफ से चुनाव आयोग को पत्र सौंपा जाएगा कि दूसरा गुट जो दावा कर रहा है, उसपर किसी तरह का निर्णय लेने से पहले चुनाव आयोग हमसे भी बात करे. 

जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष का बयान, कहा- 'एलजेपी में टूट के लिए चिराग ही जिम्मेदार' 

गौरतलब है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में पशुपति पारस को निर्विरोध अध्यक्ष चुने जाने के बाद चिराग पासवान ने चुनाव आयोग को चिठ्ठी लिखी थी. चिराग ने अपनी बात रखते हुए कहा था कि कुछ लोगों के निर्णय और बैठकों को ना माना जाए. चिराग ने लिखा था कि लोजपा अपनी गतिविधियों के बारे में लगातार चुनाव आयोग को अवगत कराती रही है. इसी के साथ उन्होनें कहा था कि अगर किसी की तरफ से एलजेपी पर दावा किया जाता है तो चुनाव आयोग पहली दृष्टि में दावे को खारिज कर दे और लोजपा यानी चिराग पासवान को अपना पक्ष रखने का मौका दे. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें