चिराग का भाजपा मोह, कहा कि सार्वजनिक निंदा कर सकते हैं पर वोट कटवा न कहें

Smart News Team, Last updated: 18/10/2020 04:22 PM IST
  • तमाम आलोचनाओं के बावजूद लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) का भाजपा मोह खत्म नहीं हो रहा है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने रविवार को कहा कि भाजपा अपना गठबंधन धर्म निभाए और मेरे खिलाफ जितना बोलना है बोलें. पीएम मोदी भी मेरी आलोचना कर सकते हैं.
भाजपा अपना गठबंधन धर्म निभाए और मेरे खिलाफ जितना बोलना है बोलें- चिराग पासवान

पटना: आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक बिसात बिछ चुकी है. चुनाव में एनडीए से लोजपा के अलग होने की जंग और रोचक रूप लेती जा रही है. बीजेपी जनता दल यूनाइटेड (JDU), हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) और विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है. वहीं तमाम आलोचनाओं के बावजूद लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) का भाजपा मोह खत्म नहीं हो रहा है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने रविवार को कहा कि भाजपा अपना गठबंधन धर्म निभाए और मेरे खिलाफ जितना बोलना है बोलें. पीएम मोदी भी मेरी आलोचना कर सकते हैं. हालांकि उन्होंने खुद को वोट कटवा पार्टी कहे जाने पर विरोध जताया है.

एक न्यूज चैनल के साथ बातचीत के दौरान चिराग पासवान ने कहा कि बीजेपी मेरा जितना विरोध करना चाहती है करे, पार्टी पापा की है. उन्होंने वोट कटवा वाले बयान पर आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि भाजपा नेताओं के वोट कटवा कहने वाले बयान से आहत हूं. पार्टी को ऐसा कहना पापा का अपमान है. प्रधानमंत्री मोदी मेरे दिल में बसते हैं. जब मेरे साथ कोई नहीं खड़ा था तब वो मेरे साथ थे. पिता के निधन पर उन्होंने मुझे सांत्वना दी. मैं अपने प्रधानमंत्री की बुराई क्यों करूं?

पुष्पम प्रिया ने की राष्ट्रपति शासन में बिहार चुनाव कराने की मांग, लिखा ख़त

चिराग पासवान ने कहा कि पांच सीटों को छोड़कर भाजपा के सभी उम्मीदवारों को मेरा समर्थन है. मैं राजद-कांग्रेस के साथ नहीं जाऊंगा. मैं मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहता. राज्य में भाजपा-लोजपा की सरकार बनेगी. मैं नीतीश के खिलाफ नहीं हूं उनकी नीतियों की आलोचना करता हूं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के विकास के मंत्र के साथ मैं बिहार फर्स्ट- बिहारी फर्स्ट के लिए प्रतिबद्ध हूं. मैं नहीं चाहता की मेरी वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी किसी धर्म संकट में पड़ें. वे अपना गठबंधन धर्म निभाएं. आदरणीय मौजूदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को संतुष्ट करने के लिए मेरे खिलाफ भी कुछ कहना पड़े तो निस्संकोच कहें.

अमित शाह ने खोला राज, बिहार में NDA से क्यों अलग हुई LJP?

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें