रामविलास पासवान की बंगले में मूर्ति उनके प्रति पार्टी के प्यार का प्रतीक, नहीं कर रहा नियंत्रण- चिराग

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 8th Sep 2021, 12:17 PM IST
  • लोजपा के नेता चिराग पासवान का 12 जनपथ स्थित सरकारी बंगले में पिता रामविलास पासवान की प्रतिमा लगाने को लेकर बयान सामने आया. चिराग ने कहा कि वो एक सांसद के तौर पर ऐसा कोई काम नहीं करेंगे तो कानून का उल्लंघन हो. यह प्रतिमा सिर्फ दिवंगत नेता के प्रति पार्टी के प्यार का प्रतीक है.
रामविलास पासवान की बंगले में मूर्ति उनके प्रति पार्टी के प्यार का प्रतीक

पटना. लोक जनशक्ति पार्टी के (LJP) के नेता और सांसद चिराग पासवान द्वारा अपने दिवंगत पिता और लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व केंद्रीय कैबिनेट मंत्री रामविलास पासवान की मूर्ति 12 जनपथ स्थित सरकारी आवास पर लगाए जाने के बाद से हंगामा मचा हुआ है. जिस पर चल रही सारी अटकलों को खारिज करते हुए चिराग पासवान का बयान सामने आया है. चिराग ने कहा कि वो बंगले पर नियंत्रम की कोशिश नहीं कर रहे हैं, यह सिर्फ एक दिवंगत नेता के प्रति पार्टी का प्रेम है. जब यहां से जाएंगे तो इस प्रतिमा को भी साथ ले जाएंगे.

सांसद के नाते नहीं करूंगा कानून का उल्लंघन

लोजपा के नेता चिराग पासवान ने कहा कि सांसद होने के नाते कोई भी ऐसा काम नहीं करेंगे, जिसे अतिक्रमण समझा जाए या जिससे कानून का उल्लंघन हो. वहीं, चिराग ने कहा कि अभी सरकार ने मुझे यहां रहने की अनुमति दी है, यह प्रतिमा सिर्फ दिवंगत नेता के प्रति पार्टी के प्यार का प्रतीक है.

चिराग पासवान ने 12 जनपथ बंगला खाली करने से पहले लोजपा संस्थापक रामविलास की मूर्ति लगा दी

पार्टी देश के हर जिले में प्रतिमा लगाने की बना रही योजना

चिराग पासवा ने कहा कि उनकी पार्टी देश के हर जिले में उनके दिवंगत पिता और नेता रामविलास पासवान की प्रतिमा लगाने की योजना बना रही है. चिराग ने कहा कि इस प्रतिमा को संपत्ति पर कब्जा करने की मेरी कोशिश के तौर पर कभी नहीं देखा जाना चाहिए. सरकार नियम किसी भी सरकारी आवास को किसी संग्रहालय या स्मारक में तब्दील करने की अनुमति नहीं देते हैं.

चिराग ने पिता रामविलास की पहली बरसी पर पीएम मोदी, अमित शाह सहित कई शीर्ष नेताओं को दिया न्योता

अब अश्विनी वैष्णव का नया ठिकाना होगा ये बंगला

12 जनपथ स्थित जिस बंगले में करीब तीन दशक से अधिक समय तक रामविलास पासवान रहे. अब केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव का नया ठिकाना ये बंगला होगा. इन्हें यह बंगला उन्हें आवंटित किया गया है. बता दें कि रामविलास पासवान के निधन के बाद आवास को खाली करने के लिए नोटिस जारी कर दिया गया था, लेकिन चिराग ने मामले को वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों से बात की जिसके बाद अभी इस बंगले में उन्हें रुकने की अनुमति दी गई.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें