रोजगार, वैक्सीन जैसे चुनावी वादों को पूरा करेगी नीतीश सरकार, तैयार होगा रोडमैप

Smart News Team, Last updated: Fri, 4th Dec 2020, 4:02 PM IST
  • बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणापत्र के माध्यम से किए गए वादों को पूरा करने के लिए तैयारी शुरु कर दी है. जिसके लिए सीएमपी का गठन किया है. घोषणापत्र में भाजपा नेताओं ने नि: शुल्क कोरोना वैक्सीन प्रदान करने का वादा किया था.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 

पटना: बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणापत्र में किए गए वादों को पूरा करने के लिए तैयारी शुरु कर दी है. एनडीए ने वादों को पूरा करने के लिए एक सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम की तैयार किया है. इसके आधार पर एनडीए सभी वादों को पूरा करेंगा. बता दें, बिहार में एनडीए गंठबंधन में चार पार्टिया जेडीयू, भाजपा, एचएएम-एस और वीआईपी शामिल है. एनडीए सभी पार्टियो के घोषणापत्र की बातों को प्राथमिकता दे रहा है.

2005 में पहली बार राज्य की सत्ता में आई एनडीए ने सीएमपी के गठन के बाद 2010 में प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में वापसी की थी. इस बार घोषणापत्र में भाजपा ने विभिन्न क्षेत्रों में 19 लाख बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने का वादा किया है. भाजपा नेताओं ने नि: शुल्क कोरोना वैक्सीन प्रदान करने का वादा किया. जदयू के प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा, “प्रक्रिया शुरू हो गई है. बहुत जल्द इसकी घोषणा की जाएगी. हमारे सभी गठबंधन सहयोगी इस पर काम कर रहे हैं." वहीं राजग के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, "उन सभी कार्यों को प्राथमिकता दी जाएगी जो अगले पांच वर्षों में विकास को बढ़ावा दे सकते हैं.

राज्यसभा उपचुनाव: RJD ने नहीं उतारा प्रत्याशी, निर्विरोध जीत सकते हैं सुशील मोदी

नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनावों से पहले अपने एक मीडिया इंटरेक्शन के दौरान यह रेखांकित किया था कि उन्होंने 2015 के दौरान बनाए गए शासन के लिए सभी सात संकल्पों को दिया है और अगर सत्ता में वापस वोट दिया जाता है, तो सात-बिंदुओं पर नए सिरे से निर्धारित करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा. वही मुख्यमंत्री ने कहा था कि राजग सरकार उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के लाभों पर प्रकाश डालते हुए हर कृषि भूमि पार्सल को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने का प्रयास करेगी. 

बिहार चुनाव में LJP की हार के बाद चिराग पासवान ने भंग की सभी कमेटी

सीएम ने महिलाओं के बीच उद्यमिता विकसित करने के लिए कार्यक्रमों की घोषणा की, जहां उन्हें 10 लाख रुपये की विशेष सहायता मिलेगी और इंटरमीडिएट परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली लड़कियों को 25,000 रुपये और स्नातक करने वाली लड़कियों को 50,000 रुपये प्रदान करने का वादा किया है.जदयू नेता ने गाँवों को शहरों की तरह साफ-सुथरा बनाने के लिए रहने के लिए एक बेहतर जगह बनाने का वादा किया था.

नीतीश कुमार सरकार ने डीजल अनुदान किया बंद, किसानों की मुसीबत बढ़ी

राज्यसभा उपचुनाव: सुशील कुमार मोदी ने किया नामांकन, सीएम नीतीश रहे मौजूद

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें