केंद्र से निर्देश के बाद बिहार में भी महामारी घोषित हुई खतरनाक ब्लैक फंगस बीमारी

Smart News Team, Last updated: Sat, 22nd May 2021, 7:43 PM IST
  • बिहार सरकार द्वारा ब्लैक फंगस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य में इसे महामारी घोषित कर दिया गया है. सूत्रों से पता चला था कि ब्लैक फंगस के संबंध में केंद्र सरकार द्वारा इसे आपदा कानून के तहत महामारी घोषित किया जा सकता है.
बिहार में ब्लैक फंगस महामारी घोषित

पटना। बिहार में नीतीश सरकार ने कोरोना के बाद तेजी से फैलते हुए ब्लैक फंगस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए इसे महामारी घोषित कर दिया है. ये सूचना स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने जानकारी देते हुए दी है. ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने से पहले स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों ने बताया था कि ब्लैक फंगस के संबंध में केंद्र सरकार द्वारा दिशा निर्देश दिए जाने के बाद इसे आपदा कानून के तहत महामारी घोषित किया जा सकता है.

बिहार राज्य में बीते कल यानी शुक्रवार को ब्लैक फंगस के 39 नए मामले सामने आए थे, जिनमें से आठ मरीजों को भर्ती करना पड़ा था. कुल 39 मामलों में से 32 मरीज पटना के तीन अस्पतालों और सात मरीज छपरा के एक निजी अस्पताल में भर्ती किए गए. इसी तरह पूरे राज्य में ब्लैक फंगस संक्रमण के लक्षण वाले 174 मरीज हो गए हैं.

एक युवक पर दो युवतियों ने जताया अपना हक, पुलिस से कहा- न्याय नहीं,पति चाहिए

शुक्रवार को बिहार के पटना एम्स की ओपीडी में ब्लैक फंगस के 30 मरीज पहुंचे, जिनमें से सात को भर्ती के लिया गया. आईजीआईएमएस में भी इसी संक्रमण का एक नया मरीज भर्ती हुआ है, वही अन्य मरीजों को दवा देकर घर भेज दिया गया. इसके अलावा निजी अस्पताल पारस में एक मरीज को ओपीडी में लाया गया था , जिसे दवा देकर भेज दिया गया.

सेनारी नरसंहार पर 22 साल बाद पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 15 आरोपी बरी

शुक्रवार तक पटना एम्स में ब्लैक फंगस संक्रमण के कुल 42 मरीज भर्ती किए गए हैं. यहां से केवल तीन मरीज स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं. आईजीआईएमएस में इस संक्रमण के कुल 39 मरीजों का इलाज किया गया है, जिनमें से 12 मरीज डिस्चार्ज कर घर भेज दिए गए हैं. इसके साथ ही छपरा शहर में स्थित एक निजी अस्पताल में ब्लैक फंगस संक्रमण के लक्षण वाले सात मरीज इलाज कराने पहुंचे थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें