CM नीतीश कुमार का ऐलान- बिहार में 15 मई तक के लिए लगा पूर्ण लॉकडाउन

Smart News Team, Last updated: 04/05/2021 11:57 AM IST
  • बिहार में 15 मई तक के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को ट्वीट कर पूरे राज्य में 15 मई तक लॉकडाउन लगाने की जानकारी दी है.
बिहार में 15 मई तक के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है.

पटना. बिहार में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए नीतीश सरकार ने लॉकडाउन लगाने का फैसला ले लिया है. बिहार में 15 मई तक पूर्ण लॉकडाउन लगाने की घोषणा की गई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को ट्वीट कर जानकारी दी कि सहयोगी मंत्रीगण एवं पदाधिकारियों के साथ चर्चा के बाद बिहार में लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया गया है. सीएम ने ट्वीट में लिखा कि इसके विस्तृत मार्गनिर्देशिका एवं अन्य गतिविधियों के संबंध में आज ही आपदा प्रबंधन समूह को कार्रवाई करने हेतू निर्देश दिया गया है. 

कोरोना संक्रमण की तेज होती रफ्तार और इलाज को लेकर पटना हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाते हुए महाधिवक्ता से कहा था कि नीतीश सरकार से बात करें और चार मई तक बताएं कि लॉकडाउन लगेगा या नहीं लगेगा. हाईकोर्ट ने कहा था कि अगर निर्णय नहीं लिया जाता है तो वह कड़े फैसले ले सकता है. गौरतलब है कि कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी जिसपर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने यह सवाल पूछा था. 

पद्मश्री सम्मानित वैज्ञानिक डॉ. मानस बिहारी वर्मा का हार्ट अटैक से निधन

श्री हरमंदिर साहिब को बम से उड़ाने की धमकी,चिट्ठी में 50 करोड़ की मांग, हड़कंप

पटना हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति चक्रधारी चरण सिंह और न्यायमूर्ति मोहित कुमार शाह की खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए मौखिक रूप से सरकार के सिस्टम को फ्लॉप बताया था. महाधिवक्ता से कहा गया था कि कोरोना की रोकथाम को लेकर सरकार के पास कोई इंतजाम नहीं है. ऐसे में लॉकडाउन लगाने का फैसला क्यों नहीं किया जा रहा है. पटना हाईकोर्ट के इस सख्त रुख के बाद बिहार सरकार ने मंगलवार को लॉकडाउन लगाने की घोषणा कर दी है.  

कोरोना का कहर बिहार में हर दिन भयंकर होता जा रहा है. सोमवार को 174 लोगों की कोरोना की चपेट में आने के कारण मौत हो गई. 42 की मौत सिर्फ राजधानी पटना में हुई है जबकि बिहार के अन्य जिलों में 132 लोगों की मौत हुई.  

बिहार में होगी 6000 से ज्यादा डॉक्टरों की बंपर भर्ती,कब और कैसे करें आवेदन,जानें 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें