खादी में निवेश पर 4% ब्याज चुकाएगी नीतीश सरकार, 5 साल में 15 हजार को रोजगार

Somya Sri, Last updated: Mon, 17th Jan 2022, 12:13 PM IST
  • बिहार सरकार की प्रस्तावित खादी नीति के तहत अगले 5 साल में 15 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है. इसके अलावा 20 हजार लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. वहीं बिहार सरकार खादी उत्पाद में निवेश करने पर 4 फीसदी तक ब्याज चुकायेगी.
खादी उत्पाद में निवेश करने पर 4 फीसदी तक बिहार सरकार देगी, (प्रतिकात्मक फोटो)

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरकार खादी उत्पाद में निवेश पर 4 फीसदी तक ब्याज चुकायेगी. राज्य सरकार खादी में निवेश करने के लिए कारीगरों द्वारा कार्यशील पूंजी के लिए लोन लेने पर उसका 4 प्रतिशत तक ब्याज चुकायेगी. वहीं बिहार सरकार के प्रस्तावित खादी नीति के तहत अगले 5 साल में 15 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है. इसके अलावा 20 हजार लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा.

बिहार सरकार के प्रस्तावित खादी नीति के तहत खादी संस्थानों और कारीगरों दोनों को यह लाभ मिलेगा. बता दें कि 4 प्रतिशत तक लोन राज्य खादी बोर्ड के माध्यम से अनुदान दिया जाएगा. प्रस्तावित खादी नीति में इसका प्रावधान किया गया है. नीति का प्रारूप तैयार कर सहमति के लिए खादी संगठनों के पास भेजा जाएगा. जिसके बाद इसपर राज्य मंत्री परिषद की मंजूरी ली जाएगी. प्रस्तावित नीति के तहत अगर खादी के नाम पर 4 फीसदी से भी कम दर पर कर्ज मिलता है तो ब्याज की पूरी राशि बोर्ड वहन करेगी.

खुशखबरी! बिहार के सरकारी मेडिकल कॉलेज में 50 और प्राइवेट 300 सीटों की बढ़ोत्तरी

इसके साथ ही अगर खादी संस्थाएं या कारीगर उत्पादन केंद्र पर भवन या शेड बनाने के लिए जमीन खरीदते हैं या किसी से ट्रांसफर कराते हैं या फिर पट्टे पर लेते हैं तो सरकार निबंधन शुल्क और स्टांप ड्यूटी की पूरी राशि माफ कर देगी. जिससे हिसाब से राज्य सरकार इसका 90 फीसदी तक का पूरा खर्च उठाएगी.

वही खादी उत्पादन की नई इकाई लगाने पर अनुमोदित परियोजना लागत पर लगने वाले टैक्स का 70 फीसदी तक राज्य सरकार वहन करेगी. प्रस्तावित खादी नीति के तहत अगले 5 साल में 15 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार देने का लक्ष्य रखा गया है. इसके अलावा 20 हजार लोगों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. इनमें खादी उद्यमी से लेकर कार्य कर और कर्मचारी शामिल है. उद्योग विभाग ने एक स्कूल को स्थापित करने की योजना भी नीति में शामिल की है. जहां 125 लोगों को नामांकन मिलेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें