जनता दरबार में CM नीतीश से फरियाद- 'हुजूर, माफिया ने कब्रिस्‍तान के साथ घर भी बेच दिया है'

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 6th Dec 2021, 1:28 PM IST
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दरबार में गृह विभाग, राजस्‍व एवं भूमि सुधार, कारा, मद्य निषेध, उत्‍पाद एवं निबंधन, निगरानी आदि से जुड़ी शिकायतें सुनीं. इस दौरान एक फरियादी ने बताया कि कब्रिस्‍तान के साथ ही उसकी निजी जमीन को भूमि माफिया ने बेच दिया है.
सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दरबार में फरियादियों की शिकायतें सुनी

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में पहले सोमवार को गृह विभाग, राजस्‍व एवं भूमि सुधार, कारा, मद्य निषेध, उत्‍पाद एवं निबंधन, निगरानी आदि से जुड़ी शिकायतें सुनी जाती है. राज्य के कई हिस्सों से फरियादी अपनी शिकायतें मुख्यमंत्री तक पहुंचा रहे हैं. इस दौरान एक फरियादी ने बताया कि कब्रिस्‍तान के साथ ही निजी जमीन को भूमि माफिया ने बेच दिया है. साथ ही भूमाफिया अब उन्हें धमकी दे रहे हैं.

वहीं एक फरियादी ने अपने पिता पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया. उन्होंने बताया कि अवैध संबंध के चक्‍कर में पिता ने सारी संपत्ति दूसरे के नाम कर दी है. अब वह अपनी मां के साथ दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं. मधेपुरा से आए फरियादी ने बताया कि उसे अपराधियों ने चार गोलियां मारी थी. लेकिन मामला दर्ज होने के बाद भी अपराधी खुलेआम घूम रहा है. साथ ही उन्होंने अपराधियों पर धमकाने का आरोप लगाया. वहीं एसपी के रीडर पर युवक ने मामले को दबाने का आरोप लगाया. जिसके बाद मुख्यमंत्री ने तुरंत डीजीपी को फोन लगाकर मामले में कार्रवाई करने को कहा.

नीतीश कुमार की JDU के महासचिव KC त्यागी के बेटे अमरीश BJP में शामिल

मिली जानकारी के मुताबिक, कई फरियादी बिना रजिस्‍ट्रेशन कराए पहुंच गए. हालांकि रजिस्‍ट्रेशन नहीं होने की वजह से उन्‍हें जनता दरबार में नहीं जाने दिया गया. वहीं एक बुजुर्ग महिला फरियादी कैमूर से आई थी. कैमूर से आई बुजुर्ग महिला ने बताया कि दबंगों ने नींबू, सब्‍जी, खस्‍सी और भैंस चोरी हो गई. लेकिन शिकायत के बावजूद कोई ध्यान नहीं दिया गया. इसलिए वह सीधे मुख्यमंत्री से शिकायत करने पहुंची हैं. बताते चलें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में पहले सोमवार को गृह विभाग, राजस्‍व एवं भूमि सुधार, कारा, मद्य निषेध, उत्‍पाद एवं निबंधन, निगरानी आदि से जुड़ी शिकायतें सुनी जाती है. इसलिए आज राज्य के कई हिस्सों से फरियादी अपनी शिकायतें मुख्यमंत्री तक पहुंचा रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें