बिहार में नीतीश सरकार करेगी प्रचार- शराब बुरी चीज, पियोगे तो मरोगे

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 16th Nov 2021, 7:29 AM IST
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराब बुरी चीज है, पियोगे तो मरोगे, इसको लेकर ठीक ढ़ंग से लोगों के बीच प्रचार-प्रसार किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी देश भर का रोड एक्सीडेंड का रोड फिगर देख लीजिए, इसमें अभी बिहार की क्या स्थिति है पता चल जाएगा.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराबबंदी के बाद क्राइम रेट काफी कम हुआ है.

पटना. यह सही नहीं है कि बिहार में अपराध बढ़े हैं. पहले की तुलना में यह घटा है.जब से हमलोग शराबबंदी किए हैं, तब से क्राइम रेट कम हुआ है. यह कहना है बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का. साथ ही उन्होंने कहा कि शराब पीकर गाड़ी चलाने से रोड एक्सीडेंट के कफी मामले सामने आते थे. अभी देश भर का रोड एक्सीडेंड का रोड फिगर देख लीजिए, इसमें अभी बिहार की क्या स्थिति है पता चल जाएगा. इस दौरान मुख्यमंत्री ने दोहराया कि शराब बुरी चीज है, पियोगे तो मरोगे, इसको लेकर ठीक ढ़ंग से लोगों के बीच प्रचार-प्रसार किया जाएगा.

सोमवार मुख्यमंत्री नीतीस कुमार जनता दरबार में पत्रकारों के सवाल के जवाब दे रहे थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि कहीं कोई आपराधिक घटनाएं होती हैं तो हर घटना पर पूरे तौर पर जांच के बाद कार्रवाई होती है. साथ ही पुलिस को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कहीं कोई घटना होती है तो जांच करिए और कार्रवाई करिए. पुलिस और प्रशासन इस मामले पर सक्रिय है. जहां कहीं भी कुछ हो रहै है उस पर एक्शन हो रहा है. मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि कुछ जगह घटना अलग किस्म की हुई है. एक जगह नक्सलियों का मामला सामने आया है तो पूरे तौर पर जांच हो रही है. एक-एक चीज को देखा जा रहा है.

कंगना रनौत के आजादी वाले बयान पर बिहार के CM नीतीश बोले- पब्लिसिटी के लिए कहा

इस दौरान मुख्यमंत्री ने विपक्ष का नाम निए बगैर कहा कि भूल गए क्या... जिस समय शराबबंदी लागू की गई थी, कितनी मजबूती के साथ सभी ने संकल्प लिया था. सर्वसम्मति से लागू किया गया. सत्ता हो या विपक्ष, सबकी सहमति से हुआ है. इसके अलावा मुख्यमंत्री ने अभिनेत्री कंगना रंनौत के आजादी वाले बयान पर कहा कि इसका कोई मतलब नहीं है. हमें हैरानी होती है कि ऐसे बयानों को पब्लिश कैसे किया जाता है. ऐसी बातों को नोटिस में नहीं लिया जाना चाहिए. इस दौरान नीतीश ने सवालिया सहजे में कहा कि कौन नहीं जानता है कि आजादी कब हुई. ऐसे बयानों का महत्व नहीं देकर उसे मजाक में उड़ा देना चाहिए. कुछ लोगों की आदत होती है. हम ऐसे लोगों पर ध्यान नहीं देते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें