CM नीतीश की शराब माफियों को चेतावनी, कहा- शराब बनाओगे, बेचोगे, पिलाओगे तो बचोगे नहीं

Indrajeet kumar, Last updated: Fri, 24th Dec 2021, 10:24 PM IST
  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गोपालगंज के मिंज स्टेडियम में समाज सुधार अभियान के तहत एक कार्यक्रम में कहा कि समाज में सुधार के बिना विकास का कोई मतलब नहीं है. सीएम ने शराब माफियाओं को चेतावनी देते हुए कहा कि शराब बनाओगे, बेचोगे और पिलाओगे तो बचोगे नहीं.
गोपालगंज के समाज सुधार कार्यक्रम में सीएम नीतीश कुमार

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गोपालगंज के मिंज स्टेडियम में समाज सुधार अभियान के तहत एक कार्यक्रम में जीविका दीदियों को संबोधित करते हुए कहा कि समाज में सुधार के बिना विकास का कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि विकास के साथ-साथ समाज सुधार भी जरूरी है. उन्होंने शराब माफियाओं को चेतावनी देते हुए कहा कि शराब बनाओगे, बेचोगे और पिलाओगे तो बचोगे नहीं. मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि शराबबंदी के साथ-साथ बाल विवाह और दहेज प्रथा को खत्म करने के लिए अभियान को आगे चलाते रहें. उन्होंने कहा कि समाज सुधार अभियान प्रेम और भाईचारे को बढ़ावा देता है. इस अभियान से समाज और राज्य काफी आगे बढ़ेगा. सीएम ने यह भी कहा कि हमें इस अभियान के लिए एकजुट होना पड़ेगा जागरूकता से ही इसे कामयाब बनाया जा सकेगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समय था जब स्वयं सहायता समूह का काम बहुत कम हो रहा था. बिहार राज्य में काफी पीछे था, लेकिन फिर भी महिलाओं में काफी जागरूकता थी. स्वयं सहायता समूह के कामों को बढ़ावा देने के लिए वर्ल्ड बैंक से कर्ज लेकर जीविका समूह का गठन किया गया. मुख्यमंत्री ने कहा कि हर गांव में जीविका समूह बनाने की इच्छा थी. जीविका समूह के गठन के बाद अच्छा काम हुआ, पहले 10 लाख समूह बनाने का लक्ष्य रखा गया था. इसके बाद अब राज्य के हर क्षेत्र में जीविका समूह का गठन हो चुका है, जिसकी तारीफ देशभर में हुई बिहार बिहार में यह लागू होने के बाद देशभर में भी इसका नाम आजीविका समूह दिया गया.

बिहार को मिलेंगे 6026 करोड़, विधायकों की अनुशंसा से स्वास्थ्य पर खर्च होंगे 904 करोड़

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि जुलाई 2015 में पटना में एक सभा के दौरान महिलाओं ने शराबबंदी की मांग की थी. इस मांग के 3 महीने बाद ही बिहार चुनाव होना था जिसके बाद मैंने दोबारा सरकार बनने पर शराबबंदी लागू करने का ऐलान किया. सरकार बनने पर इसके लिए काम शुरू कर दिया गया. शराबबंदी अभियान की शुरुआत 26 नवंबर 2015 को शुरू की गई. इसके बाद पूरे राज्य में शराब पर रोक लगाई गई. मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी के बाद महिलाओं की दशा सुधरी और महिलाओं के साथ हिंसा की घटना में कमी आई. इस दौरान मुख्यमंत्री ने लोगों को चेताते हुए कहा कि शराब बनाओगे, पिलाओगे, लोगों को मारोगे तो बचोगे भी नहीं. उन्होंने कहा कि शराब पिलाने और बेचने के मामले में पकड़े जाने पर सजा होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें