दुर्गा, दिवाली, छठ पर कोरोना प्रभावित राज्यों से बिहार आने पर कोविड जांच जरूरी

Ankul Kaushik, Last updated: Fri, 24th Sep 2021, 4:53 PM IST
  • बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश में अनलॉक के 7वें फेज का एलान करते हुए निर्देश दिया है कि कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों के लिए कोविड जांच जरूरी होगी. जो लोग बिहार में दुर्गा पूजा, दिवाली और छठ पर बाहरी राज्यों से आएंगे उनके लिए कोविड जांच जरूरी है.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना संक्रमण राज्यों से बिहार में आने वाले लोगों के लिए कोविड जांच अनिवार्य कर दी है. सीएम नीतीश ने साफ निर्देश दिया है कि जो लोग कोरोना प्रभावित राज्यों से बिहार में आएंगे उनके लिए कोविड जांच जरूरी है. मतलब साफ है कि बिहार में जो लोग दुर्गा पूजा, दिवाली और छठ के मौके पर आएंगे वह कोविड जांच जरूर कराएंगे. इसके साथ ही सीएम ने कहा है कि अभी कोविड अनुकूल व्यवहार और सावधानी बरतने की जरुरत है. इसके साथ ही बिहार के मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण ने भी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि दुर्गापूजा के बाद दीपावली एवं छठ में काफी भीड़ रहती है इसलिए इन त्योहारों पर एहतियात बरतने और भीड़-भाड़ को नियंत्रित करने के उपायों का प्रयोग करने के लिए कहा है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसी के साथ कहा कि 15 नवंबर से आंगनबाड़ी और प्राथमिक विद्यालय फिर से खोले जाएंगे. सीएम नीतीश ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप बैठक के बाद यह फैसला लिया है. सीएम नीतीश ने इस बैठक में हुए फैसलों को लेकर ट्वीट करते हुए लिखा- कोरोना महामारी संबंधी प्रतिबंधों के सकारात्मक परिणाम आए हैं. आज स्थिति की समीक्षा कर 15 नवंबर, 2021 तक सभी आंगनवाड़ी केंद्र एवं छोटे बच्चों के विद्यालय को खोलने का निर्णय लिया गया है.

नीतीश सरकार का फैसला, अब 75 प्रतिशत हाजिरी के बिना छात्रों को मिलेगी साइकिल व ड्रेस

इसके आगे सीएम ने लिखा- आगामी त्योहारों के दौरान जुलूस तथा भीड़ प्रबंधन हेतु जिला प्रशासन आदेश निर्गत करेंगे. कोरोना संक्रमण के ज्यादा मामले वाले राज्यों से आनेवाले यात्रियों की अनिवार्य कोविड जाँच कराई जाएगी. सभी पात्र व्यक्तियों का टीकाकरण कराया जाएगा. पूर्व के शेष निर्णय जारी रहेंगे और अभी भी कोविड अनुकूल व्यवहार और सावधानी जरूरी है. बिहार सरकार ने अगस्त के अंतिम सप्ताह में कोविड प्रतिबंध में ढील देते हुए स्कूल, कॉलेज, मॉल आदि खोलने की अनुमति दी थी. इसके साथ ही दुकान, मॉल और धार्मिक स्थलों को सामान्य रूप से खोलने की अनुमति दी गई थी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें