बिहार में 1 दिन में 13 हजार से ज्यादा कोरोना केस, राजधानी पटना की हालात खराब

Smart News Team, Last updated: 02/05/2021 09:08 PM IST
  • बिहार में रविवार को कोरोना के 13 हजार 534 नए केस सामने आए हैं. जिसमें सबसे ज्यादा राजधानी पटना में 2 हजार 748 कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई है. आपको बता दें कि 2 अप्रैल को पटना समेत 7 जिलों में पांच सौ ज्यादा कोविड संक्रमितों की पहचान की गई है.
2 अप्रैल को बिहार में 89 हजार से ज्यादा सैंपल की कोरोना जांच की गई है. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में कोरोना वायरस से हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. कोविड से हर रोज कई लोगों की मौत हो रही है. मिली जानकारी के मुताबिक, 2 अप्रैल रविवार को 13 हजार 534 नए कोविड संक्रमितों की पहचान हुई है. जिसमें सबसे ज्यादा 2 हजार 748 संक्रमित मिले हैं. हर रोज बिहार में कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं.

बिहार में रविवार को 89 हजार 393 लोगों की कोरेाना जांच की गई है. जिसमें से 13 हजार 534 लोगों में कोविड संक्रमण मिला है. बीते 24 घंटे में पटना समेत 7 जिलों में 500 से ज्यादा नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. जिसमें सर्वाधिक 2 हजार 748 राजधानी पटना में मिले हैं. वहीं वैशाली में 805, नालंदा में 611, बेगूसराय में 569, गया में 544 और भागलपुर में 544 कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई है.

CM नीतीश ने पत्रकारों की दिया फ्रंटलाइन वर्कर्स का दर्जा, प्राथमिकता के आधार पर होगा वैक्सीनेशन

आपको बता दें कि इससे पहले शनिवार को बिहार में कोरोना के 13 हजार 789 नए मामले सामने आए हैं. वहीं 10 हजार 905 लोग पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं. शनिवार को बिहार में कोविड संक्रमण से 82 लोगो की मौत हो चुकी है.

अस्पतालों में कोरोना मरीजों को मछली-भात खिलाएंगे नीतीश सरकार के मंत्री मुकेश सहनी

कोरोना से लड़ने के लिए बिहार की नीतीश सरकार हर रोज कोई न कोई बड़ा कदम उठा रही हैं. बिहार में 1 मई से 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को कोवि वैक्सीन लगनी शुरू हो गई है. इस बारे में बिहार सरकार ने बड़ा ऐलान किया है. सीएम नीतीश कुमार के निर्देश पर पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल करते हुए इन्हें प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण का फैसला लिया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें