अच्छी खबर: पटना एम्स में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल सोमवार से शुरू,18 लोगों का चयन

Smart News Team, Last updated: 11/07/2020 09:00 AM IST
  • पटना एम्स में कोरोना की वैक्सीन बनाने की कवायद तेज हो गई है। कोरोना वैक्सीन की खोज में पटना एम्स में वैक्सीन के ट्रायल के लिए 18 मरीजों का चयन किया गया है।
Coronavirus Vaccine news

राजधानी पटना में कोरोना वायरस का कहर जारी है। हर दिन हो रहे कोरोना विस्फोट ने राजधानी वालों को डरा दिया है। मगर इस बीच अच्छी खबर ये है कि पटना एम्स में कोरोना की वैक्सीन बनाने की कवायद तेज हो गई है। कोरोना वैक्सीन की खोज में पटना एम्स में वैक्सीन के ट्रायल के लिए 18 मरीजों का चयन किया गया है। सोमवार से इन मरीजों पर वैक्सीन का ट्रायल किया जाएगा। साथ ही साथ इनके स्वास्थ्य पर भी लगातार निगाह रखी जाएगी।

हड़कंप: पटना में अब तक का सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट, 35 BMP जवान समेत 382 पॉजिटिव

पटना एम्स के निदेशक डॉ पी के सिंह ने कहा, 'ट्रायल को लेकर पांच सदस्यीय चिकित्सकों की टीम भी गठित की गई है। हैदराबाद की दवा और वैक्सीन रिसर्च कंपनी भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने संयुक्त रूप से कोरोना वैक्सीन को विकसित किया है।'

दरअसल, भारत में विकसित इस कोरोना वैक्सीन के ट्रायल से संबंधित सभी जरूरी प्रक्रिया को 7 जुलाई तक पूरी करने के निर्देश एम्स प्रशासन को आईसीएमआर द्वारा दिया गया था। निर्देश के आलोक में एम्स प्रशासन ने जरूरी प्रक्रिया पूरी कर ली है। अब मरीजों पर परीक्षण सोमवार से शुरू होगा।

पटना के नर्सिंग होम में घिनौना कारनामा, नवजात को बेच बोला- मृत था सो फेंक दिया

गौरतलब है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद यानी कि आईसीएमआर ने पटना एम्स समेत देश के 13 संस्थानों और चिकित्सकों को कोरोना की वैक्सीन ट्रायल के लिए चयनित किया है। ट्रायल के बाद 15 अगस्त तक वैक्सीन लॉन्च करने की योजना आईसीएमआर की है।

हैदराबाद की भारत बायोटेक के साथ मिलकर आईसीएमआर संयुक्त रूप से भारत में कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन का निर्माण कर रहा है। वैक्सीन कोरोना पीड़ितों पर कितना असर कर रहा है, इसका क्लीनिकल ट्रायल किया जाना है। इसके लिए देशभर में कोरोना संक्रमितों के इलाज से जुड़े अस्पतालों और चिकित्सकों का चयन वैक्सीन के ट्रायल के लिए किया गया है। इसी क्रम में मंगलवार से एम्स में ट्रायल की प्रक्रिया शुरू होगी।

अन्य खबरें