DTO को बिना जानकारी बिकी दस हजार गाड़ियां, कर्मचारी दे रहे 2 गाड़ियों को एक नंबर

Smart News Team, Last updated: Fri, 1st Jan 2021, 9:39 AM IST
  • दस हजार गाड़ियां बिक गई जिसमें की डीटीओ और एमवीआई को इसकी जानकारी तक नहीं हुई. शहर हजारों की संख्या में ऐसी गाड़ियां है जिनको बेचते समय डीटीओ और डीटीओ और एमनीआई के हस्ताक्षर तक नहीं करवाए गए. गाड़िया चोरी हुई है या नहीं, ये कितनी पूरानी है और इनका प्रदूषण बना है या नहीं इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है.
दस हजार गाड़ियां बिक गई जिसमें की डीटीओ और एमवीआई को इसकी जानकारी तक नहीं हुई.(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. पटना मे दस हजार गाड़ियां बिक गई जिसमें की डीटीओ और एमवीआई को इसकी जानकारी तक नहीं हुई. शहर हजारों की संख्या में ऐसी गाड़ियां है जिनको बेचते समय डीटीओ और डीटीओ और एमनीआई के हस्ताक्षर तक नहीं करवाए गए. गाड़िया चोरी हुई है या नहीं, ये कितनी पूरानी है और इनका प्रदूषण बना है या नहीं इसकी जानकारी किसी के पास नहीं है. डीएच, डीएन और डीजे सीरीज की गाड़ियों को लेकर ये समस्या देखी जा रही है. 

जैसे की जानकारी मिल रही है कि डीएच, डीएन और डीजे सीरीज की सैकड़ों गाड़ियां है जो कि पिछले दिनों बिकी हैं. लेकिन ये किसको बेची गई है इसकी कोई जानकारी नहीं मिल रही है. विभाग का कहना है कि गाड़ी को बेचते समय इसका टैक्स नहीं दिया गया है. मामला टैक्स चोरी का बताया जा रहा है. 

पटना: कोरोना टीकाकरण कराने के लिए मतदाता पहचान पत्र के साथ मोबाइल नंबर जरुरी

साथ ही परिवहन विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही भी सामने आई है. कर्मचारी ने कार मालिक से ज्यादा पैसों एंठने के लिए एक ही दो नंबर पर दो कार को नंबर जारी कर दिया. जानकारी मिलते ही मामले जांच शुरू कर दी गई है.  

बिहार में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल खत्म, रात 10 बजे से जॉइन करेंगे ड्यूटी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें