कोरोना से मरने वालों के कागज गड़बड़, डेथ सर्टिफिकेट पर नहीं लिखा कोविड से मौत

Smart News Team, Last updated: Sat, 15th May 2021, 9:44 AM IST
बिहार के एसकेएमसीएच अस्पताल पर कई परिवारों ने आरोप लगाया है कि अस्पताल उनके परिजन के मौत के बाद उनके डेथ सर्टिफिकेट कॉपी पर मौत का कारण कोविड नहीं लिख कर नहीं दे रहा है. उधर अस्पताल प्रशासन का कहना है कि सभी मरने वाले लोग कोरोना संदिग्ध थे. इसलिए ये लोग चिकित्सीय कोविड संक्रमित साबित नहीं हुए हैं. 
एसकेएमसीएच हॉस्पिटल पर आरोप मृतक के डेथ सर्टिफिकेट पर मौत का कारण कोविड नहीं लिखते है. (प्रतीकात्मक फोटो)

पटना : बिहार के अस्पताल एसकेएमसीएच में कोरोना से मरने वाले मृतक के कई परिवारों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि संक्रमित मरीज के मौत के बाद दिए जाने वाले डेथ सर्टिफिकेट कॉपी पर मौत का कारण कोविड-19 नहीं लिख के दे रहा है. ऐसी शिकायत करने वाला कोई एक या दो परिवार नहीं है लगभग 4 से ज्यादा परिवारों ने दिये जाने वाले पर्ची पर मौत के कारण कोविड-19 न लिखे जाने की शिकायत की है. आशंका ये भी जताई जा रही है कि अस्पताल प्रशासन किसी के दबाव में सर्टिफिकेट पर मौत का कारण कोविड-19 इसलिए नहीं लिखते हैं, ताकि सरकारी अनुदान , बीमा और कई सारी सरकारी आर्थिक सहायता अधिक लोगों को मिल पाएं. 

हाल में ही मधुबन के रहने वाले 65 साल के बुजुर्ग का 8 मई को एसकेएमसीएच के कोविड वार्ड निधन हो गया. बुजुर्ग को जब अस्पताल में भर्ती कराया गया था, तब अस्पताल प्रशासन ने बुजुर्गों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की थी. पर अस्पताल प्रशासन ने कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट नहीं दिया था. बुजुर्ग की मौत के बाद दिए जाने वाले सर्टिफिकेट पर कहीं भी मौत का कारण कोविड-19 नहीं लिखा. बिल्कुल इसी तरह की सच्ची कहानी कई परिवारों के साथ हुआ है. अब सवाल ये उठता है कि अस्पताल प्रशासन की भूल है या फिर कोई साजिश के तहत कर रहा है.

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का लाभ पाने वालों के लिए जरूरी बदलाव, जानिए डीटेल्स

एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ बी.एस. झा ने इन आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि हम ऐसे कई संदिग्ध मरीजों के लक्षण के आधार पर एच.ए.आर.आई वार्ड में रखकर शुरुआती इलाज करते हैं. जब तक कि उनकी कोई कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आ जाती. अगर कोविड-19 आने से पहले कोई मरीज मर जाता है तब भी उसे संदिग्ध मरीज मानते हैं क्योंकि वह क्लीनिकली कोरोना संक्रमित साबित नहीं हुआ है. इस वजह से उसके डेथ की पर्ची पर कोविड नहीं लिखा जाता है.

पटना: जिलाधिकारी ने कोविड सेंटर का किया निरीक्षण, परिजनों से लिया फीडबैक

पटनाः कोरोना संक्रमित रेलकर्मियों को मिलेगी 30 दिन की छुट्टी, रेलवे ने दी मंजूरी

लालू यादव गंगा नदी में शव मिलने पर बोले- यूपी, बिहार के बेटों अपनी मां को बचाओ

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें