पटना: CPI नेता कन्हैया कुमार ने मंत्री अशोक चौधरी से की मुलाकात

Smart News Team, Last updated: Mon, 15th Feb 2021, 5:09 PM IST
सोमवार को सीपीआई नेता कन्हैया कुमार ने मंत्री अशोक चौधरी से मुलाकात की. इससे पहले लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चंदन कुमार ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी. हालांकि इन मुलाकातों को औपचारिक बताया जा रहा है लेकिन राजनीतिक गलियारों में इसके कई मायने लगाए जा रहे हैं.
मंत्री अशोक चौधरी से मुलाकात करते सीपीआई नेता कन्हैया कुमार

पटना. बिहार में सोमवार को सीपीआई नेता और जेएनयू के पूर्व अध्‍यक्ष कन्‍हैया कुमार मंत्री अशोक चौधरी से मिलने पहुंचे. कन्‍हैया कुमार ने मंत्री के आवास पर उनसे मुलाकात की.आपको बता दें कि सोमवार सुबह ही चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चंदन कुमार ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी.

हालांकि इन मुलाकातों को औपचारिक बताया जा रहा है लेकिन राजनीतिक गलियारों में इसकी चर्चा गर्म हो गई है.हर कोई इन मुलाकातों के अलग-अलग मतलब निकाल रहा है. इसके अलावा ये मुलाकातें ऐसे वक्‍त हो रही हैं जब बिहार में भाजपा के साथ सरकार चला रही जदयू अपने विस्‍तार की तैयारियों में जुटी है. पिछले विधानसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन से सतर्क हुई जदयू ने जमीनी स्‍तर पर खुद को मजबूत बनाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं.

अपनी ही पार्टी के अध्यक्ष पर भड़के तेजप्रताप, JDU ने कसा तंज

पिछले दिनों मंत्रिमंडल विस्‍तार के दौरान भी जदयू से मंत्रियों के चयन में यह कोशिश नज़र आई. आलाकमान, एक तरफ पार्टी के अंदर समीकरणों को ठीक कर सब कुछ सही करने में जुटा है तो दूसरी तरफ बाहरी तौर पर कोशिशें जारी हैं. राजनीतिक जानकार कह रहे हैं कि भविष्य में बिहार में क्या राजनीति होगी फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता. नेताओं की ताजा मुलाकातों को लेकर कहा जा रहा है कि सीएम नीतीश कुमार भविष्‍य के हालात को लेकर अपनी रणनीति तैयार कर रहे हैं. इन दिनों वे सभी नेताओं और विधायकों से मुलाकात कर रहे हैं.

बिहार के अररिया में पंचायत चुनाव को लेकर तैयारियां तेज

बिहार की सियासी राजनीति में हर दिन कुछ नया होता है. हाल में सीपीआई में कन्‍हैया कुमार के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव पारित किया गया था. इसके बाद आज कन्‍हैया ने मंत्री अशोक चौधरी से मुलाकात की. कन्‍हैया के जदयू में शामिल होने की सम्‍भावनाओं पर जदयू नेता अजय आलोक ने कहा कि वह कम्‍युनिस्‍ट विचारधारा के नेता हैं. यदि वह अपनी विचारधारा को छोड़ने को तैयार हैं और जदयू की विचारधारा को अपनाते हैं तो उनका पार्टी में स्‍वागत है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें