PHID के रिटायर पदाधिकारी से खाते पर साइबर अपराधियों ने डाला डाका, पुलिस जांच में जुटी

Smart News Team, Last updated: Mon, 19th Apr 2021, 9:45 AM IST
  • पटना में पीएचईडी डिपार्ट से रिटायर हुए प्रशाखा पदाधिकारी के बैंक खाते से साइबर क्राइम अपराधियों ने एक बड़ी रकम निकल ली. वही इसकी जानकारी उनको मोबाइल पर एसएमएस आने पर पता चला. पुलिस में तहरीर देने के बाद इसकी जांच शुरू कर दी है.
PHID के रिटायर पदाधिकारी से खाते पर साइबर अपराधियों ने डाला डाका, पुलिस जांच में जुटी

पटना. पटना के पीएचईडी डिपार्ट से रिटायर हुए प्रशाखा पदाधिकारी के बैंक के खाते से ऑनलाइन ठगी करने वालों कहते से 5 लाख रुपए युद्ध दिए. वहिं उनको इसकी जानकारी मोबाइल पर रुपए कटने के मश्ग आने के बाद पता चला. वो वह मेसेज उनके खाते में पांच लाख रुपए जमा होने के बाद पता चला. जब उन्होंने इसकी रिपोर्ट पुलिस में कई तब कुछ और ही कहानी सामने आई. 

जानकारी के अनुसार पीड़ित सुरेश पासवान कई दिनों से बीमार चल रहे है. वही उनका आधा शरीर पैरालाइज भी हो गया है. जिसके कारण वह चलने फिरने में भी असमर्थ है. वही वह अपने बेटे देव कुमार के साथ पटना के राजवंशी नगर में किराए के कमरे में रहते है. उनके बैंक में रिटायर होने पर मिल रुपया ही जमा था. जिसपर ऑनलाइन ठगी करने वालों ने निकालने का प्रयास किया.

JDU विधायक और पूर्व मंत्री मेवालाल चौधरी का कोरोना से निधन,CM नीतीश ने शोक जताया

दरअसल ठग ने उनके खाते से निकली गई राशि को दूसरे बैंक में ट्रांसफर कर रहे थे, लेकिन वह रकम ट्रांसफर होने के बजाय दोबारा उनके खाते में वापस आ गई. जिसके बाद वह अपने बेटे के साथ पटना सचिवालय में स्थित एसबीआई बैंक गए. जहां पर वह इसकी शिकायत वहां के एजीएम से करना चाह रहे थे, लेकिन उनके ऑफिस के बाहर बैठे स्टाफ ने एजीएम से नहीं मिलने दिया. साथ बैंक का भी कोई कर्मचारी उनकी शिकायत नहीं सुनी. 

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पटना हाईकोर्ट के न्यायिक कार्य 24 अप्रैल तक स्थगित

जिसके बाद वह थक हारकर पुलिस में इसकी रिपोर्ट कराई. फिर जाकर बैंक ने उनकी शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए जांच की तो पता चला कि उनके खाते से 5-5 लाख रुपए करके दो बार निफ्ट के जरिए रुपए ट्रांसफर किया गया था. वही यह रकम सिंगापुर की बैंक डीबीएस के मुंबई ब्रांच के किसी खाते में भेजी गई थी. वहिं दूसरी रकम कोलकाता के एचडीएफसी बैंक के खाते में भेजी गई थी. जो उनसुक्सीस्फुल होने की वजह से बैंक खाते में वापस आ गई. वही पुलिस में दोनों बैंक को एफआईआर की कॉपी भेजने के बाद इसकी जांच शुरू कर दी गई. 

बिहार में ऑक्सीजन की कमी दूर करने को लेकर नीतीश सरकार का प्लान, जानें

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें