पटना: कभी लूट तो कभी साइबर ठगी, OLX पर ग्राहक बन मैनेजर के खाते से 65 हजार उड़ाए

Smart News Team, Last updated: 08/07/2020 10:01 AM IST
  • ओएलएक्स पर मोबाइल बेचने का विज्ञापन अपलोड करना एक छात्र को महंगा पड़ गया। ऑनलाइन इस विज्ञापन को देखकर एक शातिर अपने को फौजी बताकर ग्राहक बन गया और उसके पिता के अकाउंट से 65 हजार रुपये उड़ा डाले।
cyber fraud in Patna

राजधानी पटना में अपराधियों का आतंक जारी है। पटनावाले फिजिकल लूटेरों से लेकर साइबर ठगों तक से परेशान हैं। इस बार पटना में साइबर ठगी का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे। दरअसल, ओएलएक्स पर मोबाइल बेचने का विज्ञापन अपलोड करना एक छात्र को महंगा पड़ गया। ऑनलाइन इस विज्ञापन को देखकर एक शातिर अपने को फौजी बताकर ग्राहक बन गया और उसके पिता के अकाउंट से 65 हजार रुपये उड़ा डाले।

पटना में कोरोना पॉजिटिव की बाढ़, बढ़े मरीजों के बेड, मरीजों का होम आइसोलेशन भी

हुआ यूं कि मोबाइल का सौदा तय होने पर जब छात्र ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने के लिए शातिर को अपने मैनेजर पिता के अकांउट आदि की जानकारी व्हाट्सऐप पर भेजी तो शातिर ने उसके पिता के अकाउंट से 65 हजार रुपये उड़ा दिये। मोबाइल पर जब अकाउंट से पैसे कटने का मैसेज आया तब जाकर छात्र को पता चला कि उसके साथ बड़ा फ्रॉड हो गया है।

ठगी का शिकार हुए इस छात्र ने अब इस मामले की शिकायत पुलिस में कराई है। छात्र की ओर से कंकड़बाग थाने में अज्ञात साइबर ठग के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है।

कोरोना: सिविल, पटना सिटी-दानापुर कोर्ट 3 दिन और बंद, वर्चुअल कोर्ट से सुनवाई

दरअसल, कंकड़बाग थाना क्षेत्र के जालेश्वर मंदिर के पीछे पीआईटी कॉलोनी निवासी रीसू दत्ता ने अपने पुराने मोबाइल को बेचने के लिए ओएलएक्स पर विज्ञापन अपलोड किया था। मोबाइल की कीमत उसने 17 हजार तय की थी। साइबर ठगों ने ग्राहक बनकर ऑनलाइन पेमेंट करने के नाम पर रीसू का फोन पे ऐप के माध्यम से उसका सभी बैंक डिटेल्स लेकर उसके पिता के बैंक खाते से 64 हजार 300 रुपये निकाल लिए।

पीड़ित रीसू दत्ता 12वीं का छात्र है। वह राजस्थान कोटा में अपने पिता सुबोध कुमार दत्ता के साथ रह कर 12वीं की पढाई करता है। पिता भी कोटा में ही एक कनटेनर कॉरपोरेशन कंपनी में बतौर मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं। ठगी करने वाले ग्राहक ने खुद को फौजी बताया। रीसू दत्ता को विश्वास हो इसलिए उसने अपने अन्य ठग साथी परमिल सिंह का फर्जी आर्मी का आइकार्ड व आधार कार्ड व्हाट्सऐप पर भेजा। इसके बाद कॉलर ने कुछ देर बाद उन्हें फोन किया और रुपये फोन पेय के माध्यम से भेजनी की बात कही। इसके बाद उसने एक लिंक भेजा और जल्द ही उसे ओके करने के लिए कहा। लिंक पर क्लिक करने के बाद अकाउंट से पैसा कट गया।

अन्य खबरें