दरभंगा ब्लास्ट केस में अरेस्ट दोनों भाई पटना लाए गए, NIA को 7 दिन की रिमांड मिली

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Jul 2021, 9:01 PM IST
  • पटना के एनआईए कोर्ट ने दरभंगा स्टेशन ब्लास्ट केस में तेलंगाना से गिरफ्तार मोहम्मद इमरान मलिक और नासिर मलिक को सात दिन की एनआईए रिमांड में भेज दिया है.
एनआईए की हिरासत में दरभंगा ब्लास्ट केस के आरोपी दोनों भाई.

पटना. दरभंगा स्टेशन ब्लास्ट केस में तेलंगाना से अरेस्ट दो भाई मोहम्मद इमरान मलिक और मोहम्मद नासिर मलिक को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच हवाई जहाज से शुक्रवार की सुबह पटना लाया गया. दोपहर में एनआईए कोर्ट में दोनों की पेशी हुई जहां से कोर्ट ने दोनों की सात दिन की रिमांड राष्ट्रीय जांच एजेंसी को दे दी है. दोनों यूपी के शामली जिले के कैराना के रहने वाले हैं और एक के पिता तो फौज से रिटायर हैं जो 1962 में चीन से लड़ाई में देश के लिए लड़े थे. 

एनआईए सूत्रों ने कहा है कि दोनों का संबंध आतंकी संगठन लश्कर-ए-तय्यबा यानी एलईटी से है. दरभंगा ब्लास्ट केस की जांच कर रही एनआईए टीम ने दोनों को बुधवार को तेलंगाना से गिरफ्तार किया था और ट्रांजिट रिमांड पर लेकर शुक्रवार को पटना आ गई. एनआईए के मुताबिक ये दोनों 17 जून को दरभंगा रेलवे स्टेशन पर हुए पार्सल ब्लास्ट केस में संदिग्ध हैं. दरभंगा स्टेशन पर सिकंदराबाद से आई एक ट्रेन के पार्सल वैन से स्टोर में जा रहे कपड़ों के एक बंडल में धमाका हुआ था. नासिर 20 साल से हैदराबाद में कपड़े के कारोबार में हैं. नासिर के पिता मूसा खान सेना में रहे हैं.

पटना में कोर्ट में पेशी से पहले एनआईए टीम ने दोनों से करीब ढाई घंटे तक पूछताछ की और अगले 7 दिन रिमांड में बाकी पूछताछ करेगी. एनआईए सूत्रों का कहना है कि नासिर 2012 में पाकिस्तान गया था और वहां उसने आतंकी कैंप में रहकर ट्रेनिंग भी ली है. दोनों भाई इंटरनेट आधारित मैसेज और कॉल के जरिए लगातार अपने हैंडलर के संपर्क में थे. एनआईए का कहना है कि इनका प्लान था कि ट्रेन खुलने के कुछ घंटे बाद धमाका हो लेकिन बम दरभंगा आकर फटा नहीं तो लोगों की जान जा सकती थी. 

दरभंगा ब्लास्ट केस में गिरफ्तार दो आतंकियों पटना लेकर पहुंची NIA, आज कोर्ट में पेशी 

पटना एयरपोर्ट को सैनिक छावनी में बदल दिया गया था

दोनों भाइयों को इंडिगो की फ्लाइट से पटना लाया गया जिसके लैंड करने से पहले पटना एयरपोर्ट एरिया को सीआईएसएफ, एटीएस और पटना पुलिस के जवानों ने छावनी में तब्दील कर दिया. एयरपोर्ट पर विजिटर एंट्री रोक दी गई. हैदराबाद से लाने में इन्हें जहाज में सबसे आखिरी में चढ़ाया गया था लेकिन पटना में दोनों को सबसे पहले उतारा गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें